Onanism Treatment In Homeopathy

1,691

हस्तमैथुन से तात्पर्य किसी व्यक्ति द्वारा अपने हाथ आदि की सहायता से ही वीर्यपात कर लेने से हैं । यह किसी प्रकार का रोग नहीं है बल्कि एक प्रकार की बुरी आदत है जिसे बार-बार अपनाने से व्यक्ति का शरीर कमजोर, बीमार और निस्तेज होता जाता है । अतः प्रत्येक व्यक्ति को चाहिये कि वह इस बुरी आदत से बचकर रहे । इस आदत से बचने का सबसे अच्छा उपाय यही है कि व्यक्ति एकान्त में न रहे, गन्दी पुस्तकें एवं पिक्चरें न देखे, प्रतिदिन स्नान करे और प्रतिदिन व्यायाम करे । होमियोपैथी में इस आदत को छुड़ाने के संबंध में जो औषधियाँ बताई गई हैं उनका वर्णन यहाँ पर किया जा रहा है । ध्यान रखने की बात यह है कि केवल दवा लेने से यह आदत नहीं छूट सकती है बल्कि व्यक्ति को अपने मन पर नियंत्रण भी रखना होगा ।

ब्यूफोराना 30, 200 – यह दवा हस्तमैथुन की आदत को दूर कर देती है। कुछ चिकित्सक इसे निम्नशक्ति में प्रतिदिन तीन बार लेने की सलाह देते हैं जबकि कुछ चिकित्सक इसे उच्चशक्ति में सप्ताह में एक बार लेने की सलाह देते हैं ।

पिक्रिक एसिड 30, 200 – यह दवा कामेच्छा को दबाकर चित्त को शान्त करती है जिससे हस्तमैथुन की आदत छूट जाती है ।

औरिगेनम 30 – यदि कोई व्यक्ति विषय-भोग की तीव्र इच्छा से वशीभूत होकर हस्तमैथुन करने लगे तो उसे यह दवा देनी चाहिये ।

म्युरेक्स 30 – यदि किसी व्यक्ति में विषय-भोग की इतनी तीव्र इच्छा हो कि वह अपने वश में न रहता हो और पागल-सा हो जाता हो और इन कारणों से वह हस्तमैथुन करने लगे तो इससे बढ़कर अन्य कोई दवा नहीं है लेकिन इसे काफी समय तक लगातार प्रयोग करना चाहिये ।

स्टेफिसेग्रिया 30, 200 – डॉ० चौधरी लिखते हैं कि यह दवा व्यसनों में डूबे हुये और इस कारण से मानसिक रूप से व्यथित हो चुके लोगों की प्रमुख दवा है । ऐसे व्यक्ति जो हस्तमैथुन की अति के कारण निस्तेज हो जाते हैं, जिनके शरीर और मन में फुर्ती नहीं रहती, जिनका स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है- ऐसे लोगों के लिये यह दवा अत्यन्त कारगर है । इस दवा को निम्नशक्ति से प्रारंभ करके उच्चशक्ति तक देना चाहिये ।

कैन्थरिस 30 – यह दवा प्रायः समस्त प्रकार के पुरुषों की हस्तमैथुन करने की इच्छा को दूर कर देती है ।

अस्टिलेगो 30 – यदि कोई पुरुष विवाहित होते हुए भी (कहने का तात्पर्य है कि स्त्री-संसर्ग की सुविधा उपलब्ध होते हुए भी) हस्तमैथुन करतं हो तो उसे यह दवा प्रतिदिन दो बार देनी चाहिये- इससे उसकी यह आदत छूट जायेगी। वैसे पिक्रिक एसिड 30 भी लक्षणानुसार प्रयोग की जा सकती है।

एसिड फॉस 30, 200 – हस्तमैथुन के कारण आई हुई शारीरिक कमजोरी को दूर करती है ।

चायना 30, 200 – हस्तमैथुन के कारण आई हुई शारीरिक कमजोरी को दूर करती है- लक्षणानुसार देनी चाहिये ।

प्लैटिना 200, 1M – यदि किसी भी अविवाहित अथवा विवाहित पुरुष को अप्राकृतिक मैथुन की आदत पड़ गई हो तो उसे यह दवा देनी चाहिये। निम्नशक्ति का प्रयोग न करें, उच्चशक्ति का ही प्रयोग करें ।

काली कार्ब 200 – यदि कोई व्यक्ति हस्तमैथुन नहीं भी करता है लेकिन उसका ध्यान सदैव अपने जननांगों की तरफ लगा रहता है तो भी यह भी एक प्रकार का रोग-लक्षण ही है । ऐसी स्थिति में प्रायः अधिकांश चिकित्सक फॉस्फोरस ही दिया करते हैं लेकिन डॉ० केन्ट का मत है कि ऐसी स्थिति में फॉस्फोरस से लाभ नहीं होगा बल्कि ऐसे रोगियों को काली कार्ब देनी चाहिये। काली कार्ब के रोगियों को शिथिलता महसूस होती है, वह हमेशा बिस्तर पर ही लेटा रहना चाहता है, उसकी आँखों के आगे अँधेरा-सा छा जाता है । काली कार्ब को 200 शक्ति में सप्ताह में एक बार देना चाहिये।

5 Comments
  1. प्रवीन says

    सर मेरी उम्र 24 साल है । मुझे हस्तमैथुन की आदत है ।क्या ऊपर लिखी दवाई मेसे कोई एक 2-3 साल तक continue ले सकते है क्या ?
    मैं शादी तक इसे लेना चाहता हु ।
    मार्गदर्शन करे की कोंसी लेनी है ।
    कंटिन्यू ले सकते ह या गैप देना होगा ? तो कितना देना होगा ?

    1. अनुभवी G.P.Singh says
      1. Sanjay Singh says

        Sir my baby is suffering to epilepsy,
        i want to contact with you .

        please call me: 9794452673

  2. siddeeque says

    सेक्स पावर बढ़ाने के लिए होमियो में कोन सी दवा का प्रयोग करूँ।28 साल का हूँ

  3. Prakash Gupta says

    Sir mujhe sex Karne ka jada mind me aata rahta hai jab bhi me sone jata hu pata nai mujhe nashe si dimag par chha jata hai or me gandi sochne lagta hu jab tak apni sarir ki garmi ko sant nai Kar leta jab tak mujhe nind nai aati .so but please mujhe koi upay bataye jise hum apni bimari ko jald se jald khatam Kar saku Mene bahut try kiya apne ko rokne ko but nai rok pata hu aye karib12years se hota aa raha Mera mobile number . 8745003634

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.