सभी प्रकार के मासिक धर्म की समस्या का इलाज

872

ऋतुधर्म सम्बन्धी अन्य प्रमुख उपसर्गों के लिए हितकर औषधियों के विषय में निम्नानुसार समझना चाहिए :-

रज:स्त्राव में समस्या का होम्योपैथिक दवा

(1) अत्यधिक मात्रा में, ढेले-ढेले जैसा स्राव होने पर – चायना 1 ।

(2) काले रंग का अनियमित स्राव तथा ऋतुस्राव के समय प्रसव जैसा तीव्र दर्द – नक्स-वोमिका 30 ।

(3) चमकीले रक्त का निरन्तर स्राव – जो सहज ही जम जाता हो तथा उसके साथ अत्यधिक मिचली – इपिकाक 30 ।

(4) चमकीले लाल खून का स्राव एवं टपक जैसे दर्द का अनुभव – बेलाडोना 30।

(5) अधिक परिमाण में, अनियमित स्राव, विशेष कर प्रात:काल प्रसव जैसे दर्द की अनुभूति – नेट्रम-म्यूर ।

(6) रज:स्राव आरम्भ होते ही हैजा जैसे लक्षण प्रकट होना – ऐमोन-कार्ब ।

(7) रज:स्राव के पूर्व तथा स्राव के समय कब्ज तथा दोनों पाँवों में ठण्डक – सिलिका।

(8) रज:स्राव अधिक परिमाण में, जल्दी-जल्दी काले रंग का थक्का-थक्का सा होना, ठण्ड का अनुभव तथा सुस्ती का लक्षण – ऐमोन-कार्ब ।

(9) रज:स्राव आरम्भ होते ही अन्य कष्टों का घट जाना, परन्तु बन्द होते ही पुन: बढ़ जाना – जिंकम।

(10) रज:स्राव की अवधि में स्वयं को स्वस्थ अनुभव करना – जिंकम ।

(11) रज:स्राव का जल्दी-जल्दी अधिक परिमाण में तथा गरम होना – बेलाडोना।

(12) रज:स्राव के कारण अत्यधिक कमजोरी तथा बोलने की शक्ति न रहना – कार्बो-ऐनिमेलिस ।

रजःस्राव का रंग

(1) स्राव का रंग भूरा – लिलियम-टिग, नाइट्रिक-एसिड, क्रियोजोट ।

(2) स्राव का रंग आभायुक्त – थ्लैस्पि, चायना ।

(3) स्राव का रंग दूध जैसा सफेद – बौरेक्स, पल्सेटिला, सल्फर, कोनियम, कैल्के-आयोड, कैलि-म्यूर, सीपिया, कैल्के-कार्ब, ग्रैफाइटिस ।

(4) स्राव का रंग हरी आभायुक्त – मर्क, पल्सेटिला, बोविस्टा, कार्बो-वेज, थूजा, सीपिया, फास्फोरस ।

(5) अण्डलाल जैसे श्लेष्मायुक्त स्राव – बैरोक्स, ऐलम, कैल्के-कार्ब, थूजा, कैलि-सल्फ, पल्स, ऐम्ब्रा ।

(6) गाढ़ा स्राव – पल्सेटिला, आयोड, नाइट्रिक-एसिड, हाइड्रेस्टिस, थूजा, सीपिया ।

(7) पानी जैसा पतला स्राव – आर्सेनिक, ऐमोन-कार्ब, ग्रैफाइटिस, सिफिलिनम, सल्फर, मर्क-कोर, नाइट्रिक-एसिड ।

रजःस्त्राव की प्रकृति

(1) रज:स्राव के साथ जननेन्द्रिय में खुजली – कैल्के-आयोड, कैल्के कार्ब, क्रियोजोट, मर्क, चायना, ऐम्बा, सीपिया ।

(2) तीखा, जलनयुक्त तथा जख्म करने वाला स्राव – ऐलम, लिलियम-टिग, नाइट्रिक-एसिड, सल्फर, सिलिका, सीपिया, आयोड, नेट्रम-म्यूर, मर्क, क्रियोजोट, कैमोमिला, बोरैक्स, कोनियम, कैल्के-कार्ब ।

(3) ढेले जैसा स्राव – ऐण्टिम क्रूड, हाइड्रेस्टिस, बेलाडोना, सोरिनम ।

(4) दुर्गन्धित स्राव – सोरिनम, मर्क, थ्लैस्पि, हिपर, क्रियोजोट, सीपिया, सिकेल, थूजा, हैलोनियस ।

(5) अधिक परिमाण में स्राव – नेट्रम-म्यूर, लैकेसिस, हाइडैस्टिस, आर्सेनिक, आर्ज-नार्ड, कैल्के-कार्ब, डलैप्स, सीपिया, पल्सेटिला, थूजा, स्टैनम ।

(6) मांस के धोवन जैसा परन्तु दुर्गन्धित स्राव – नाइट्रिक-एसिड ।

(7) यन्त्रणादायक स्राव – सल्फर, सिपिया ।

(8) पीव भरा स्राव जिसका कपड़े में पीला दाग लगता हो – चायना, पल्सेटिला, हाइडैस्टिस, कैलि-बाई, कैलि-सल्फ ।

(9) रक्ताधिक्य – क्रियोजोट, मर्क-बाइवस, नाइट्रिक-एसिड, कार्बो वेज, कैल्के-कार्ब, थ्लैस्पि, सीपिया, चायना, मर्क-कोर ।

(10) यन्त्रणारिहत स्राव – पल्सेटिला, ऐमोन-म्यूर ।

(11) डोरी जैसा कड़ा तथा लसदार स्राव – ग्रैफाइटिस, ऐलम, ऐसिड नाइट्रिक, हाइड्रैस्टिस, कैलि-म्यूर, कैलि-बाई, इस्क्युलस ।

(12) रुक-रुक कर होने वाला स्राव – कोनियम, सल्फर ।

(13) देर से होने वाला थोड़े परिमाण वाला एवं तीखा स्राव – कैलि-बाई।

(14) अनुत्तेजक अथवा स्निग्ध स्राव – पल्सेटिला, स्टैनम, कैल्के-फॉस, फ्रैकि-सिनम, अमेरिकाना, बोरैक्स ।

(15) आशा से अधिक पहले होने वाला स्राव – कैल्के-कार्ब ।

(16) केवल प्रात:काल होने वाला स्राव – सीपिया ।

(17) केवल रात में होने वाला स्राव – बोविस्टा ।

(18) प्रात: तथा सन्ध्या समय होने वाला स्नाव – फैलेण्ड्रियम ।

(19) केवल दिन में होने वाला स्राव – हैमामेलिस, कास्टिकम ।

(20) प्रात:काल बड़ी झोंक (तेजी) से होने वाला स्राव – बोविस्टा ।

(21) तीसरे प्रहर बन्द हो जाने वाला स्राव – मैग्ने-कार्ब।

(22) लेटने पर रुक जाने वाला स्राव – लिलियम-टिग, कास्टिकम, कैक्टस ।

(23) केवल रात में (या सबेरे ही) होने वाला स्राव – बोविस्टा ।

(24) सिर्फ दिन में होने वाला तथा सोने पर रुक जाने वाला स्राव – लिलियमटिग, कास्टिकम, कैक्टस ।

(25) हिलने-डुलने से होने वाला स्राव – लिलियम-टिग ।

(26) समय पर होने वाला, परन्तु थोड़ी देर तक धीमा रहने वाला स्राव – लैकेसिस ।

(27) सोने पर होने वाला, परन्तु बैठने या चलने पर रुक जाने वाला स्राव – क्रियोजोट ।

रज:स्त्राव के समय अन्य कष्ट

(1) स्राव से पूर्व शरीर के निम्न भाग में भार का अनुभव तथा ऋतु का जल्दी-जल्दी एवं अधिक परिमाण में होना – मस्कस ।

(2) जल्दी-जल्दी होने वाला तथा बहुत दिनों तक जारी रहने पर भी पेट में ऐंठन करने वाला – नक्स-वोमिका 3x ।

(3) अधिक परिमाण में, जल्दी-जल्दी काले थक्के के रूप में होने वाल, रात में बढ़ना तथा पाँवों में दर्द होना – एमोन-म्यूर।

(4) स्राव आरम्भ होने से पूर्व दोनों स्तनों में दर्द तथा सूजन हो जाना – कोनियम ।

(5) स्राव आरम्भ होने से पूर्व तथा बाद में अत्यधिक रक्तस्राव, जिसका रंग भिन्न प्रकार का हो – आस्टिलैगो ।

(6) काला, डोरी जैसा, उदर में किसी जीवित पदार्थ के घूमने जैसी अनुभूति देने वाला – लिलियम-टिग ।

(7) काला, डोरी जैसा, उदर में किसी जीवित पदार्थ के घूमने जैसी अनुभूति देने वाला – क्रोकस ।

(8) काला थक्का-थक्का जैसा, जिसके साथ कामोन्माद के लक्षण भी हो – प्लैटिनम ।

(9) काला, बहुत जल्दी-जल्दी होने वाला, झिल्ली जैसा और जिसके साथ डिम्बाशय का दर्द भी हो – मैग्नेशिया-फॉस ।

(10) दिन में ऋतुस्त्राव तथा रात में प्रदर का स्राव – कास्टिकम ।

(11) दो सप्ताह के अन्तर से अधिक परिमाण में स्त्राव होना, जो एक सप्ताह तक अथवा अधिक दिनों तक होता रहे – लिलियम ।

(12) अधिक परिमाण में तथा तीखा – रस-टाक्स ।

(13) अधिक परिमाण में, काले थक्के जैसा और जिसके साथ दृष्टि-क्षीणता अथवा बेहोशी के उपसर्ग भी हों – साइक्लेमेन ।

(14) अधिक परिमाण में, काला-तीखा, कुछ देर बन्द रहकर फिर होने – क्रियोजोट ।

(15) अधिक परिमाण में, श्वेत-प्रदरयुक्त, कपड़े को भिगोने वाला तथा पैर तक टपकने वाला – सिफिलिनम ।

(16) काले रंग के श्लेष्मा के साथ अल्प परिमाण में तथा प्रसव-वेदना जैसे दर्द से युक्त – एपिस ।

(17) देर से, थोड़ा, एकदम बन्द होने वाला, कुटकुटाने वाला तथा कष्टकर स्त्राव – सल्फर I

(18) रक्त की अधिकता चमकीले लाल रंग का स्राव – इपिकाक ।

(19) रात में अथवा सोते समय स्राव जारी रहना, परन्तु चलते समय बन्द हो जाना – मैग्नेशिया-कार्ब ।

(20) रुक-रुक कर अत्यधिक परिमाण में, मैले पानी अथवा काले थक्के-थक्के जैसा स्राव – फेरम ।

(21) थोड़ा बिलम्व से होने वाला, स्राव के समय पसीना आदि शरीर का सम्पूर्ण रस स्निग्ध हो जाना अथवा अनुत्तेजक स्राव होना – पल्सेटिला ।

(22) अलकतरे जैसा काला स्राव, सोते समय न होना, डिम्बाशय अथवा जरायु में दबाव का अनुभव तथा टपक जैसा दर्द – कैक्टस ।

(23) हृत्पिण्ड के चारों ओर शूल के साथ बाधक दर्दयुक्त स्राव – कोनियम ।

मासिक धर्म के अन्य कष्ट

(1) स्राव का रुकना, हिस्टीरिया एवं स्नायु-दौर्बल्य – सिनिसियो 1x ।

(2) स्राव रुकने के कारण नाक से खून गिरना – ब्रायोनिया ।

(3) कष्टरज:, तलपेट में टपकन जैसी वेदना, पेट में शूल का दर्द तथा प्रसव वेदना जैसी तकलीफ – कैमोमिला ।

(4) कष्टरज:, डरपोक तथा शान्त स्वभाव वाली स्त्रियों का काले रंग का थक्का-थक्का स्राव – पल्स।

(5) शरीर में फुन्सियाँ होने के बाद ही रज:स्राव होना – डल्कामारा ।

(6) जख्म, पेट में दर्द, योनि-प्रदाह, भार का अनुभव – हेलोनियस Q, (5 बूंद पानी के साथ)।

(7) आँखों के समीप काले चकत्ते जैसे दाग, शरीर का रंग पीला, नासिकाग्र पर घोड़े की जीन जैसा पीला दाग, पेट में शूल-वेदना जैसा दर्द, श्वेत-प्रदर, कम अथवा अधिक परिमाण में रज:स्राव, प्रसव-वेदना, जैसा तलपेट में दर्द – इन लक्षणों वाली साँवली अथवा काली स्त्रियों के ऋतु-रोग में – सीपिया 6 ।

(8) हर बार ऋतुकाल में पेट से खून गिरना – ऐमोन-कार्ब।

(9) वात के साथ ऋतुधर्म की गड़बड़ी होना – सिमिसिफ्यूगा 3 ।

(10) हर बार पाखाने के साथ जरायु से रक्तस्राव, साथ ही तलपेट, कमर तथा पीठ में दर्द – आयोड ।

(11) जरायु की वृद्धि – फ्रैक्सिनस अमेरिकाना Q ।

(12) जरायु-भ्रन्श, योनि-प्रदाह तथा जख्म – निम्फिया आडोरेटा ।

(13) सर्दी लगने के कारण रज:स्राव रुक जाना – पल्सेटिला ।

(14) मैला, चर्बी लगा हुआ तथा अनियमित ऋतुस्राव – नेट्रम-म्यूर ।

(15) योनि-रोग के कारण स्नायुओं में सुस्ती – बेलाडोना 6, जिंकम ।

(16) सड़ा, दुर्गन्धयुक्त, तीखा, जलन तथा कमजोरी करने वाला प्रदर – क्रियोजोट ।

(17) अधिक स्राव, काला थक्का-थक्का जैसा तथा प्रसव-वेदना जैसी पीड़ा – कैमोमिला।

(18) अधिक स्राव, काला, पीठ में दर्द, दोनों स्तनों में काँटे चुभने जैसा दर्द तथा मानसिक-विषण्णता – सिमिसिफ्यूगा ।

(19) दस्त, वमन तथा ठण्डे पसीने के कारण ऋतुशूल एवं हिमांग – विरेट्रम ऐल्बम ।

(20) रजोरोध के समय शरीर में ताप अथवा रह-रह कर गरम हो जाना – लैकेसिस ।

(21) पानी से सम्पर्क अथवा स्नान करने के कारण रज:स्राव बन्द ही जाना – लैकेसिस ।

(22) स्राव रुकना तथा सर्दी लगने के कारण देर से होना – पल्सेटिला ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?