पेट में दर्द, सूजन और जलन के लिए होम्योपैथिक दवाई

0
418

जब हम खाना खाते हैं तो उस खाने में जो भी पौष्टिक तत्व होता है वह हमारे शरीर के अलग-अलग हिस्सों में चला जाता है और जो फालतू तत्त्व बचता है वह मल के रूप में हमारे शरीर से निकल जाता है। हमारा पेट एक गुब्बारेनुमा अंग है जिसमे बहुत सारी गैस्ट्रिक ग्रंथियां होती है, जब पेट की अन्दरूनी परत सूज जाती है तो उस स्थिति को हम Gastritis कहते हैं। Gastritis में पेट में दर्द, उल्टी, पेट में सूजन, गैस बनना और भूख न लगना आम बात है। Gastritis की समस्या कभी-कभी कुछ समय के लिए होती है और कभी-कभी यह समस्या काफी लम्बे समस्य तक रह सकती है।

Gastritis होने के कारण

  1. H. pylori बैक्टीरिया का पेट में होना, यह बैक्टीरिया पेट की लगभग सभी समस्याओ का प्रमुख कारण है।
  2. यदि आप बहुत ज्यादा धूम्रपान करते है तो Gastritis की समस्या होने की संभावना बढ़ जाती है।
  3. अगर आप शराब बहुत ज्यादा पीते है तो भी आपको Gastritis होने की संभावना है।
  4. बहुत अधिक तेल-मसाले वाले खाने का सेवन करना।
  5. बहुत अधिक दवाइयों का सेवन करना।

Gastritis के लक्षण

कई बार Gastritis के लक्षणों को लोग महसूस नहीं कर पाते या उसे आम गैस की समस्या समझ लेते हैं। लेकिन अगर आपको निम्न लक्षण दिखे तो समझिये की आपको Gastritis की समस्या है:-

  1. पेट के ऊपरी हिस्से या बीच के हिस्से में हमेशा या बार-बार दर्द होना।
  2. पेट में दर्द के साथ जलन महसूस होना।
  3. पेट दर्द के साथ उल्टी आना, भूख न लगना और वजन कम होना।
  4. खट्टी डकारे आना साथ ही पेट दर्द होना।

अगर आपको यह सब लक्षण दीखते हैं तो एक बार TEST करा कर देख लें कि कहीं आपको Gastritis की समस्या तो नहीं है।

Gastritis की समस्या के लिए कुछ होम्योपैथिक दवाइयाँ निम्न है

Nux Vomica :- यह दवाई Gastritis की समस्या के लिए सबसे अधिक प्रयोग की जाती है। अगर धूम्रपान करते हैं, शराब का अधिक सेवन करते हैं या तेल-मसाले वाले भोजन का सेवन अधिक करते हैं साथ ही आप मानसिक तनावों से भी गुजर रहे हैं जिसके कारण आपको गैस की समस्या होती है और यह समस्या बढ़ते-बढ़ते Gastritis की समस्या बन गई है तो Nux Vomica सबसे असरदार दवाई है। अगर आपको अपच की समस्या है साथ ही आपको उल्टी भी आती है और कभी-कभी दस्त की समस्या भी हो जाती है तो आप इस दवाई का सेवन कर सकते हैं। यह दवाई पाचन तंत्र के लिए भी बहुत ही असरदार है।

दवा लेने की विधि :- यह दवाई आपको 2 बून्द शाम को पीना है। केवल शाम को ही इसका सेवन करे। अगर आपको ज्यादा समस्या है तो इसका सेवन दिन में तीन बार करें।

Oxalicum acidum 30CH :- Gastritis या गैस की समस्या में यह दवाई बहुत असरदार है। यह दवाई उस वक्त इस्तेमाल की जा सकती है जब आपको बहुत अधिक जलन या दर्द है और व ठीक नहीं हो रही है अन्य उपायों से। उल्टी आने या खट्टी डकार के बाद भी यदि Gastritis की समस्या ठीक न हो तो यह दवाई इस्तेमाल कर सकते हैं।

दवा लेने की विधि :- यदि आपको Gastritis की समस्या बहुत ज्यादा समय से है या इसकी वजह से बहुत दर्द हो रहा है तो आपको इसका सेवन रोज सुबह दो बून्द करना है। यदि समस्या ठीक नहीं हो रही है तो इसका सेवन दिन में तीन बार करना है जब तक ठीक न हो जाये।

Arsenic Album 30 CH :- यदि आपको खाने की गंध अच्छी नहीं लग रही और खाने को देखने से ही उल्टी आती है, तो यह दवाई ली जा सकती है। पेट में बहुत अधिक जलन है जिस कारण आप खूब सारा पानी एक बार में पी लेते हैं। यह दवाई पेट की जलन के लिए बहुत ही ज्यादा असरदार है। Gastritis की सभी समस्याओं के लिए यह दवाई बहुत ही असरदार है। अगर आपको Gastritis की समस्या कुछ समय से है तो आपको इसकी दो बून्द दोपहर में लेनी है और यदि आपको Gastritis की समस्या काफी समय से है और वह ठीक नहीं हो रहा है तो Arsenic album की दो-दो बूँद दिन में तीन बार लेनी है।

Hydrastis Mother Tincture :- अगर आपको हमेशा Gastritis की समस्या रहती है और वह ठीक नहीं हो रही है तो आप इस दवाई का सेवन करे आपको जल्द ही Gastritis की समस्या से राहत मिल जायेगा। यदि आपको मल त्यागने में कोई समस्या हो रही है साथ ही आपको Gastritis की समस्या भी है तो यह दवाई बहुत ही लाभदायक है। यह पेट की सूजन के लिए भी कारगर है।

दवा लेने की विधि :- आधा कप पानी में Hydrastis Mother Tincture की 20 बूँद डालनी है और इसको पीना है। इसका सेवन दिन में तीन बार करना है।

Reckeweg R5 :- यह दवाई पेट से सम्बन्धित लगभग सभी समस्याओं में दी जाती है, इसका सेवन Gastritis की समस्या के लिए भी बहुत किया जाता है। आधे कप पानी में R5 की 10 बूँद डाल कर इसका सेवन करना है। R5 दिन में तीन बार पीनी है Gastritis की समस्या को पूरी तरह ठीक करने के लिए।

Loading...
SHARE
Previous articleDulcamara 200 Uses, Benefits, Symptoms And Dosage In Hindi
Next articleबच्चों की अच्छी सेहत के लिए होम्योपैथिक दवा [ Homeopathic Tonic For Babies In Hindi ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here