Pichi ( Fabiana Imbricata ) Homeopathy In Hindi

0
274
Pichi Pichi

सिस्टाइटिस ( मूत्राशय का प्रदाह ), गोनोरिया, प्रोस्टेटाइटिस, पेशाब में कष्ट, पेशाब में पीब या श्लेष्मा, पेशाब में कूथन व पेशाब के बाद जलन, पेशाब में पथरी निकलना, मूत्राशय का बढ़ना जैसे लक्षण में इस औषधि का उपयोग होता है।

यह एक बलवर्धक एवं पित्त निस्सारक औषधि है, नाक के नजले, कामला तथा मंदाग्नि ( dyspepsia ) की चिकित्सा तथा पित्तस्राव को बढ़ाने के लिए इस औषधि का प्रयोग किया जाता है। यह भी टेरीबिन्थ की तरह ही मूत्रल औषधि है। Uric acid diathesis, मूत्राशयशोथ ( cystitis ), मूत्रकृच्छ ( dysuria ), prostatitis के साथ होने वाली पुरुष-ग्रन्थि की सपूय अवस्थाओं में इसका उपयोग किया जाता है, पित्तपथरी एवं यकृत सम्बन्धी रोग।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658

मात्रा – Q की 10 से 15 बून्द आधे कप पानी के साथ।

Loading...
Loading...
SHARE
Previous articlePolygonum Punctatum Homeopathy In Hindi
Next articleOstrya Virginiana 30 Uses In Hindi
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here