Polyporus Officinalis Uses, Benefits And Side Effects In Hindi

373

इसका दूसरा नाम बोलिटस है। कोटेडियन सविराम ज्वर में ( नित्य 24 घण्टे के अंतर के ज्वर में ) थोड़ा पसीना, उससे ज्वर न घटना और थाइसिस में रात को अधिक को अधिक पसीना होने में अधिक फायदा करता है। थाइसिस में 1/4 से 1/2 ग्रेन की मात्रा में व्यवहार करना चाहिए।

ज्वर – पहले मेरुदण्ड में शीत, उत्ताप में मानो शरीर में आग है ऐसा मालूम पड़ना, शीतावस्था में जम्हाई आना, शरीर का टूटना, कन्धा, गाँठों और कमर में भयानक चबाने-सा दर्द, रात में बहुत पसीना आने के लक्षण में polyporus officinalis लाभ करता है।

सिर – सिर खोखला मालूम पड़ता है, अंदर तक दर्द होता है, जीभ मोटी और पीली मैल चढ़ी होती है, दांत में दरार रहती है और मिचली के लक्षण होते हैं।

त्वचा – त्वचा गर्म और सूखी रहती है, खासकर हथेली। कन्धे और बाजुओं में खुजली होती है।

सम्बन्ध – एगारिसीन, पोलीपोरस, बोलेटस ल्यूराडस, बोलेटस सैनेटस से इस औषधि की तुलना किया जाता है।

मात्रा – पहली शक्ति ज्यादा फायदा करता है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.