गर्भावस्था में टांगों में सूजन और शिराओं में शोथ का होम्योपैथिक इलाज

0
212

गर्भावस्था में टांगें सूज जाने और शिराओं में शोथ होने पर निम्नलिखित औषधियाँ हितकर हैं :-

एपिस 3 – टांगों तथा पावों का सूजकर कड़ा हो जाना, सूजन वाली जगह का फूल कर मोम जैसा दिखाई देना तथा अंगुलियों के सिरों का सुन्न होने लगना-इन लक्षणों में दें ।

फेरम-मेट 6 – टांगों का सख्त तथा भारी हो जाना, पावों में सूजन तथा चलते समय पाँवों में दर्द होना।

Loading...

ब्रायोनिया 30 – टांगों से सूजन आरम्भ होकर पाँवों तक पहुँचना तथा चलते समय अथवा कुछ देर खड़े रहने पर टांगों में सुस्ती आने के लक्षणों में ।

चायना 30 – टांगों में बेचैनी, पाँवों में सूजन तथा सख्ती, टांगों को लगातार हिलाते रहने की इच्छा तथा इन लक्षणों के साथ पेशाब का गहरे रंग का होना ।

आर्सेनिक 30 – पाँवों का फूलना, सूजना, कड़ा होना तथा टांगों एवं पाँवों में हर समय थकान का अनुभव होना ।

पल्सेटिला 30 – यह शिरा-शोथ की मुख्य औषध है । यह ‘प्रतिषेधक’ का काम करती हैं। शिरा-शोथ की आशंका में विशेष लाभ करती है।

हैमामेलिस Q, 6 – शिरा-शोथ हो जाने पर इसका प्रयोग करें तथा इसके मूल-अर्क के लोशन में पट्टी भिगोकर शोथ-स्थान पर रखें। इसके मूल-अर्क की 5-10 बूंदें दो-दो घण्टे के अन्तर से 5-6 सप्ताह तक देते रहने से भी रोग दूर हो जाता है । लाभ होने के साथ ही औषध देने के समय का अन्तर भी बढ़ाते जाना चाहिए।

वाइपेरा 12 – टांगें लटका कर बैठने पर असह्य दर्द तथा उनके फट पड़ने जैसा अनुभव, पक्षाघात का नीचे से ऊपर को आना ।

नक्स-वोमिका 30 – अधिक खाने-पीने अथवा मद्यपान आदि के कारण होने वाले शिरा-शोथ में हितकर है ।

पाइरोजेन 200 – शिरा-शोथ के कारण टांगों में अल्सर हो जाना और अल्सर से स्त्राव बहना तथा बन्द होना इन लक्षणों में दें ।

बेलाडोना 30 – रक्त-वाहनियों में अधिक रक्त होने के कारण शिरा-शोथ में हितकर है ।

ग्लोनायन 30 –बेलाडोना‘ की भाँति हितकर है ।

आर्सेनिक-ऐल्ब 30 – शिरा-शोथ में आग जैसी जलन तथा रात के समय कष्ट बढ़ने के लक्षण में ।

फॉर्मिका 6, 30 – यदि शिरा-शोथ से टांगें बेहद कमजोर हो गई हों तथा जोड़ों में दर्द होता हो तो इसे दें।

फ्लोरिक-एसिड 6, 30 – स्त्रियों के शिरा-शोथ के पुराने रोग में लाभकर है । किसी अन्य औषध से फायदा न होने पर इसे दें ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658

लैकेसिस 30 – शिराओं के बदरंग हो जाने, नीली पड़ जाने पर इसे देना चाहिए।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here