Prolapsus Of Uterus Treatment – गर्भाशय की स्थान च्युति

1,594

गर्भाशय को जरायु भी कहते हैं । भारी सामान उठाना, अधिक शारीरिक श्रम करना, कपड़े सदैव बहुत कसकर बांधना, पुराना कब्ज़, अधिक भोग, चोट लगना आदि कारणों से गर्भाशय अपने स्थान से हट जाता है ।

सीपिया 30– यह इस रोग की अत्युत्तम औषधि है । भीतरी अंगों के बाहर निकल पड़ने जैसी अनुभूति हो जिससे रोगिणी अपनी दोनों टाँगों को परस्पर सटा ले, नीचे की ओर भार का अनुभव हो तो लाभप्रद है । इस दवा को 1M, 10M शक्ति में भी लक्षणानुसार दे सकते हैं परन्तु उच्चशक्ति को बार-बार दोहराना नहीं चाहिये ।

फ्रेक्सिनस अमेरिकाना Q- भीतरी अंगों की बाहर निकल पड़ने की अनुभूति हो, नीचे की ओर भार का अनुभव हो, पतला प्रदर जो जलन न करे तो लाभप्रद हैं ।

लिलियम टिग 30- योनि के भीतर के अवयवों में दबाव का अनुभव होना, शौच की हाजत बने रहना, जरायु का सामने की ओर झुक जाना, योनि के बाहरी भाग में खुजली होना- इन लक्षणों में दें ।

लैकेसिस 30- रजोरोध-काल में जरायु की स्थान-च्युति होने पर दें ।

कोनियम 6, 30- जरायु बाहर दिखाई पड़ने लगे तब यह दवा दें ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.