पेशाब में Pus या मवाद आने का होम्योपैथिक इलाज और दवा || Pus Cells In Urine Homeopathic Treatment In Hindi

0 71

मूत्र में मवाद कोशिकाओं की उपस्थिति किसी प्रकार के संक्रमण का संकेत है। मवाद सफेद या पीले या थोड़े हरे रंग का पदार्थ होता है जो गोंद की तरह गाढ़ा होता है। पेशाब में मवाद यह दर्शाता है कि मूत्र पथ में किसी प्रकार का संक्रमण है। मवाद में मृत कोशिकाएं, बैक्टीरिया और सफेद रक्त कोशिकाएं होती हैं। मूत्र की स्थिति में मवाद के लिए चिकित्सा शब्द Pyuria के रूप में जाना जाता है और यह विभिन्न चिकित्सा स्थितियों के लिए एक सामान्य लक्षण है। Pyuria का सबसे आम कारण मूत्र मार्ग में संक्रमण का होना है। महिलाओं को यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन होने का खतरा अधिक होता है। यह स्थिति काफी गंभीर हो सकती है यदि यह किसी पुरुष को प्रभावित करती है। UTI यूरिनरी ट्रैक्ट में बैक्टीरिया के प्रवेश करने के कारण होता है। संक्रमण गुर्दे, मूत्राशय, मूत्रवाहिनी और मूत्रमार्ग के किसी भी हिस्से में हो सकता है और आमतौर पर निचले हिस्से जैसे मूत्रमार्ग और मूत्राशय में संक्रमण अधिक होता है।

मूत्र में मवाद कोशिकाओं की उपस्थिति के दो सबसे सामान्य कारण हैं:-

  • मूत्र मार्ग में संक्रमण या यूटीआई
  • यौन संचारित रोग

मूत्र में मवाद दिखने के कुछ अन्य कारण हैं जैसे :-

  • विषाणु संक्रमण
  • जीवाणु संक्रमण
  • फफूंद संक्रमण
  • रासायनिक विषाक्तता
  • पथरी
  • मूत्र पथ के क्षय रोग
  • पुरुषों में प्रोस्टेट ग्रंथियों में संक्रमण
  • मूत्र अंगों या जननांगों का कैंसर
  • कभी-कभी मूत्र में मवाद कोशिकाएं वृद्धावस्था और गर्भावस्था के कारण भी उत्पन्न होती हैं। कुछ दवाएं भी पेशाब में मवाद की स्थिति पैदा करती हैं।

कभी-कभी यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन या यूरिन में मवाद की उपस्थिति के कोई लक्षण नहीं होंगे। जब लक्षण होते हैं तो वे इस प्रकार होते हैं

  • पेशाब में बदबू
  • क्लाउडी यूरिन
  • बुखार
  • लगातार पेशाब आना
  • पेशाब करते समय दर्द या बेचैनी
  • उल्टी
  • पेट में मरोड़

यदि मूत्र में मवाद आना यूटीआई के कारण होता है तो दर्द मूत्राशय के अंदर या मूत्रमार्ग की नोक पर महसूस किया जा सकता है, जिसके माध्यम से मवाद कोशिकाएं शरीर से बाहर निकलती हैं। यदि एसटीडी द्वारा मवाद बनता है, तो बुखार होगा, कमजोरी होगी और बीमार होने के सारे भावना होंगे।

पेशाब में मवाद आने का होम्योपैथिक उपचार

होम्योपैथी आज एक तेजी से बढ़ती प्रणाली है और पूरे विश्व में इसका अभ्यास किया जा रहा है। जहाँ तक मूत्र में मवाद कोशिकाओं का संबंध है तो होम्योपैथी में कई प्रभावी दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन चयन रोगी के मानसिक और शारीरिक लक्षणों को देखते हुए करना चाहिए।

CANTHARIS 30 – मूत्र में मवाद कोशिकाओं के लिए CANTHARIS शीर्ष रेटेड दवाओं में से एक है। पेशाब में दर्द के साथ तेज जलन इसका मुख्य लक्षण है। किडनी की तरफ थोड़ा मीठा-मीता दर्द रहता है। बूंद-बूंद यूरिन पास होता है जिससे पेशाब करने की लगातार इच्छा बनी रहती है। ऐसे लक्षण पर CANTHARIS 30 की 2 बून्द दिन में 3 बार लेना है।

APIS MELLIFICA 30 – पेशाब करते समय मूत्रमार्ग में जलन और डंक जैसा दर्द होने पर APIS MELLIFICA निर्धारित की जाती है। आखिरी बूंद जलन करता है। मूत्र कम, गहरा रंग का होता है जो कि कास्ट से भरा होता है। मूत्र प्रवाह धीमा होता है। पेशाब करते समय मूत्रमार्ग में चुभने वाला दर्द भी होता है।

BAROSMA CRENATA Q – यह दवा Genitourinary system पर कार्य करता है। मूत्र में मवाद अधिक आता है। मूत्राशय में दर्द और बेचैनी बनी रहती है।

Berberis Vulgaris Q – यह तब दी जाती है जब पेशाब न करने पर भी मूत्रमार्ग में जलन हो। इसके साथ ही किडनी क्षेत्र और जांघों में भी दर्द हो सकता है। पेशाब करने की लगातार इच्छा और बहुत थोड़ा पेशाब आना। पेशाब करने के बाद ब्लैडर में कुछ यूरिन रह जाने का अहसास होता है। पेशाब करते समय मूत्राशय में ऐंठन या दर्द होता है। किडनी स्टोन की भी अतिउत्तम दवा है। ऐसे लक्षण पर इसकी 20 बून्द आधे कप पानी में डाल कर दिन में 3 बार पीना है।

EQUISETUM Q – यह यूटीआई के लिए एक विशिष्ट दवा है। पेशाब करने की बार-बार और असहनीय इच्छा होती है। मूत्राशय में सुस्त दर्द लगातार बना रहता है। पेशाब करते समय मूत्रमार्ग में तेज जलन होती है। पेशाब में बहुत अधिक मवाद और एल्ब्यूमिन होता है।

COPAIVA OFF Q – यह भी मूत्र में मवाद के लिए एक प्रभावी उपाय है। इसमें पेशाब से दुर्गंध आती है। एक तीखी गंध के साथ हरे, मैले रंग का पेशाब होता है। पेशाब करने में दर्द, पेशाब बूँद-बूंद निकलता है।

Chimaphila Umbellata Q – इसमें मूत्र का रंग गंदला और तीखा जलनयुक्त वाला होता है, मूत्र में खूनी बलगम मिला हो सकता है और एक प्रचुर मात्रा में तलछट जमा होता है। पेशाब के दौरान जलन और तनाव होता है।

SARASAPARILLA 30 – Sarasaparilla का संकेत तब दिया जाता है जब व्यक्ति पेशाब के समापन पर गंभीर दर्द का अनुभव करता है। मूत्रमार्ग में दर्द पेट तक फैल सकता है। पेशाब की धार भी कमजोर और पतली होती है। बच्चों के मूत्र में मवाद कोशिकाएं की उत्तम दवा है। बच्चा पेशाब करने से पहले और पेशाब करते समय दर्द से चिल्लाता है।

MERC COR 30 – यूटीआई के कारण पेशाब में मवाद के लिए मर्क कोर एक प्रभावी दवा है। इस दवा के बारे में उन मामलों में सोचा जा सकता है जहां रोगी पेशाब करने में असमर्थ है या इसके लिए बहुत प्रयास करना पड़ता है। पेशाब बहुत कम होता है और अक्सर रोगी को पेशाब में गहरे रंग का मांस जैसे बलगम के टुकड़े निकलते हैं। पेशाब बहुत गर्म होता है और बूंद-बूंद करके और बहुत दर्द के साथ आता है। MERC COR रोगी की एक और विशेषता यह है कि उसे पेशाब करने के तुरंत बाद बहुत अधिक पसीना आता है। ऐसा आमतौर पर इसलिए होता है क्योंकि रोगी को यूरिन पास करने के लिए काफी जोर लगाना पड़ता है। यह दवा गर्भावस्था के उन्नत चरणों में बार-बार होने वाले यूटीआई में भी अच्छे परिणाम देती है।

SOLIDAGO VIRGA Q – यह मूत्र में मवाद के लिए एक और प्रभावी दवा है। पेशाब में एल्बुमिन, खून और मवाद मिला रहता है। गुर्दे का दर्द पेट और मूत्राशय तक फैल जाता है। कभी-कभी पेशाब रुक जाने पर इस दवा के उपयोग से पेशाब आना शुरू हो जाता है।

NITRIC ACID 30 – नाइट्रिक एसिड मूत्र में मवाद कोशिकाओं के लिए एक उत्कृष्ट दवा है जहां से पेशाब बहुत ही जलन और दर्द वाला होता है। पेशाब कम और गहरे रंग का होता है। पेशाब करते समय जलन और चुभन महसूस हो सकती है।

PAREIRA BRAVA 30 – यह यूटीआई के लिए बहुत प्रभावी दवा है। इसका मुख्य लक्षण हैं – पेशाब करने के लिए लगातार आग्रह करना, अत्यधिक तनाव। पेशाब करने के प्रयास के दौरान जांघों के नीचे दर्द होना। पेशाब काला, खूनी, गाढ़ा मवाद वाला होता है। बड़ी मुश्किल से यूरिन पास होता है। सबसे खराब स्थिति में केवल हाथ और घुटनों पर बैठने से ही पेशाब आता है।

UVA URSI 30 – यह मवाद कोशिकाओं के लिए एक और मुख्य दवा है जहां मूत्र में मवाद कोशिकाओं के साथ रक्त का संचार होता है। मूत्र में कठोर बलगम भी हो सकता है। बार-बार पेशाब करने की इच्छा होती है। मूत्राशय में जलन देखी जाती है। उपरोक्त लक्षणों के साथ मूत्रमार्ग में काटने का दर्द भी मौजूद हो सकता है।

COLI BACILLINUM 30 – ई-कोलाई संक्रमण के इलाज के लिए एक विशिष्ट दवा है। यह ई कोलाई संक्रमण की पुनरावृत्ति के उपचार में मदद करता है। पेशाब करते समय दर्द और जलन को भी ठीक करता है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें