Reckeweg R2 Drops in Hindi [ हृदय रोग का होम्योपैथिक दवा ]

3,996

Reckeweg R2 Heart Efficiency-Gold Drops

आज के समय में हृदय सम्बन्धी तरह-तरह की बीमारी बढ़ रही है जैसे की हार्ट अटैक, हार्ट स्ट्रोक, सांस लेने में परेशानी, खून का जम जाना आदि और इनसे बहुत सारे लोगो की मौत हो जाती है । वैसे तो हृदय सम्बन्धी रोगों के लिए आमतौर पे लोग मेडिसिन के डॉक्टर के पास जाना पसंद करते है लेकिन हम आपको बता दें कि इसके लिए सबसे बढ़िया इलाज है होमियोपैथी जिसका कोई नुकसान नहीं है और यह आपको बिमारियों से मुक्ति भी दिलाता है और इसी हृदय सम्बन्धी बीमारी के लिए इस्तेमाल किया जाता है रेकवेग R2 जिसे हम Heart Efficiency-Gold Drops के नाम से भी जानते हैं।

इसमें पाए जाने वाले तत्त्व

रेकवेग R2 में हृदय को मजबूत करने अर्थात कार्डिक बीमारियों में मुख्य रूप से इस्तमाल होने वाले मेडिसिन हैं :- Arnica D3, Aurum chloratum D6, Cactus D4, Digitalis D3, Ignatia D6, Laurocerasus D3, Spigelia D3, Valeriana D2, Crataegus Q, Kalium phosphoricum D4, aconite D6 जोकि हृदय सम्बन्धी बीमारियों के लिए रामबाण है।

हृदय की किन बिमारियों में करे इसका इस्तेमाल

  • एनजाइना पेक्टोरिस – यह एक ऐसी बीमारी होती है जिसमे दिल यानी की चेस्ट में दर्द होता है और कई बार यह बहुत भयंकर और जानलेवा हो जाता है, सुई गड़ने जैसा दर्द जोकि सांस लेने के समय बढ़ जाता है। ऐसे दर्द में रेकवेग R2 का प्रयोग अच्छा रहता है।
  • हृदय में किसी भी तरह का दर्द हो रहा हो या दिल में घबराहट हो रही हो तभी इस दवा का उपयोग किया जा सकता है।
  • अगर सांस लेने में परेशानी हो रही हो, अगर धड़कन एक लय में नहीं धड़क रहा है, ऐसा महसूस होना की सांस बहुत छोटी-छोटी ली जा रही है तो भी आप इस मेडिसिन का सेवन कर सकते हैं।
  • कई बार हमारा पल्स रेट सामान्य से बहुत अधिक या सामान्य से बहुत कम हो जाता है और ऐसे में इंसान को बहुत तकलीफ होती है । अगर आपको सांस लेने में अधिक आवाज जैसे की धक धक सुनाई दे रहा है तो आपकी पल्स रेट बढ़ी हुई है और आप इस दवाई का इस्तेमाल कर सकते है ।
  • अगर आपको हार्ट की कोई पुरानी बीमारी है या फिर आपको पहले कभी हार्ट अटैक आ चुका है तो आप इस मेडिसिन का इस्तेमाल कर सकते है जिससे आपको दुबारा इसके होने का खतरा नहीं रहेगा और आपको आराम मिलेगा ।
  • सामान्यतः लोग ब्लड प्रेशर को इग्नोर कर रहे होते है और यह अचानक से बढ़ने या घटने लगती है जिससे इंसान के मौत होने की भी सम्भावना रहती है । अगर आप हाई या लो ब्लड प्रेशर के पेशेंट है तो भी आप इस दवाई का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • इसके अलावा दिल में दर्द, जलन, या फिर हृदय गति को सही तरीके से बनाये रखने के लिए जैसी समस्याओं में आप इस दवाई का इस्तेमाल कर सकते है ।

रेकवेग R2 में मिलाये गए हर दवा का अपना एक विशेष स्थान है और इसके बारे में समझने की आवश्यकता भी है, तो आइये समझते हैं :-

Arnica – ये मेडिसिन ब्लड को पतला और क्लॉटिंग को खत्म करने का काम करती है। इसके साथ-साथ अगर हृदय में दर्द रहा है तो भी ये मेडिसिन अच्छा काम करती है।

Aurum chloratum – ये मेडिसिन हार्ट के मांसपेशियों पर अच्छा असर करती है। अगर ब्लड फ्लो में किसी भी तरह की कोई समस्या हो तो भी इस मेडिसिन का उपयोग होता है। हृदय का दर्द अगर ऊपर तरफ जाता हो तो इसमें भी ये दवा अच्छा काम करती है।

Crataegus – ये मेडिसिन टॉनिक की तरह काम करता है, अगर आप हार्ट की बीमारी से ग्रस्त हैं तो ये दवा आपके हार्ट का ख्याल रखता है, इसके अलावा हार्ट के मांसपेशियों पर बहुत अच्छा असर करती है और पूरे हार्ट का ख्याल एक पहरेदार की तरह करती है।

Digitalis – ये मेडिसिन Crataegus की तरह ही एक प्रकार का टॉनिक का काम करता है, अगर पल्स बहुत मजबूत और हार्ट कमजोर हो जाये तो ये दवा बहुत अच्छा काम करती है, और मेडिसिन रेकवेग R2 में मिली हुई है जोकि एक बहुत अच्छा कॉम्बिनेशन है।

Ignatia – ये मेडिसिन हमारे हृदय के लिए बहुत अच्छी है, खासकर तब जब किसी चिंता और डिप्रेशन के कारण हृदय में प्रॉब्लम आ जाय। कभी कोई दुःखद समाचार सुनंने के बाद हृदय की धड़कन बढ़ जाती है, हृदय नर्वस हो जाता है तो इसके लिए Ignatia उत्तम दवा है।

Kalium phosphoricum – अगर खून की कमी है, नर्वसनेस है या हृदय की मांसपेशियां कमजोर हैं तो ये दवा अच्छा लाभ करती है।

Spigelia – अगर प्लस का सिस्टम ख़राब हो जाये, कभी तेज हो जाये कभी बिल्कुल धीमी हो जाये तो ये मेडिसिन अच्छा काम करती है। अगर कार्डियक पेशियों में समस्या आ जाये या इन्फेक्शन हो तो भी ये दवा अच्छा काम करती है।

रेकवेग R2 की लेने की विधि और मात्रा

( Doses of Reckeweg R2 )

  1. अगर अचानक से हृदय में दर्द उत्पन्न हो जाये या धड़कन अनियमित हो जाये, सांसे कम आये तो रेकवेग R2 की 10 बून्द को आधे कप पानी में मिलाकर आधे घंटे के अंतराल पे तब तक लें जब तक दर्द या प्रॉब्लम सामान्य न हो जाये।
  2. हृदय के रोगी के लिए रेकवेग R2 की 10 बून्द आधे कप पानी में दिन में 3 बार खाना खाने के आधा घंटा पहले लेना है।

रेकवेग R2 का कोई भी साइड इफेक्ट्स नहीं है, तो इसका सेवन निःसंकोच किया जा सकता है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?