Reckeweg R87 Anti Bacterial Drops In Hindi [ होम्योपैथिक एंटीबायोटिक ड्रॉप ]

0
339

हमारे चारों तरफ कीटाणु व बैक्टीरिया है जो हमपर कभी न कभी हमला करते हैं और हमारे शरीर में उनकी वजह से बहुत सी बीमारियां होती है। कीटाणु व जीवाणु के कारण हमे बहुत सी बीमारियां हो जाती है जैसे टाइफाइड, निमोनिया या केवल सर्दी-खांसी। कभी-कभी खांसी के कारण कफ भी बनता है। जीवाणु कई प्रकार के होते हैं जो हमे नुकसान पहुंचाते है। कुछ कम और कुछ अधिक नुकसान पहुंचाते है जिनके कारण हमे तरह-तरह की बीमारियां होती है। अगर कोई कीटाणु या जीवाणु हमारे शरीर के अंदर चला गया है जिससे हमे बीमारियां हो जाती है तो उनसे बचने के लिए हम बहुत तरह की दवाइयां खाते हैं जोकि एंटीबायोटिक होती है। इन एंटीबायोटिक दवाइयों का शरीर पर बुरा असर भी होता है, होम्योपैथी में भी एंटीबायोटिक ड्रॉप आते हैं जोकि किसी भी प्रकार से शरीर के लिए नुकसानदेह नहीं है।

Reckeweg R87 anti Bacterial Drops :- यह दवाई जर्मन की Dr. Reckeweg की दवाई है। यह दवाई बहुत ही असरदार है अगर आपको कीटाणु या जीवाणु के कारण कोई इन्फेक्शन हो गया है तो। इसमें कई सारी होम्योपैथी दवाईयाँ डली हुई है जिनकी वजह से आपके शरीर पर कीटाणु या जीवाणु का असर नहीं पड़ता और पड़ता है तो जल्दी ठीक हो जाता है, इस दवाई में सभी प्रकार के बैक्टीरिया के एंटीबैक्टीरिया दवाईयाँ डली हुई है, ये होम्योपैथी दवाईयाँ है:-

Botulinum D30, E-Coli D30, Glandulae Thymi D30, Hydrastis D3, Pneumococcinum D30, Proteus D30, Pseudomonas D30, Salmonella D30, Scarlatinum D30, Staphylococcinum D30, Streptococcinum D30, Tuberculinum D30.

Loading...

ये सभी दवाईयाँ बैक्टीरिया के नाम पर है और उस जीवाणुओं से लड़ने में और शरीर को उनके प्रभाव से बचा कर रखने के लिए प्रयोग में लाई जाती है। R87 के सेवन से आपको इन सभी में से किसी भी प्रकार के बैक्टीरिया से इन्फेक्शन हो, वह ठीक हो जायेगा।

R87 anti Bacterial Drops लेने की विधि :- अगर आपके घर में छोटा बच्चा है और उसे इन सभी बैक्टीरिया से बचाना है तो उस बच्चे को यह दवाई एक साल तक देनी है, इससे वह इन सभी प्रकार के बैक्टीरिया से बचा रहेगा और इनके कारण होने वाले रोगों से भी बचा रहेगा। ये दवाई अपच की समस्या में भी काम आती है। यदि आपके घर में एक साल तक का बच्चा है तो आपको इस ड्रॉप की 3 बून्द दिन में तीन बार पिलानी है, और ये ड्रॉप उस बच्चे को तीन दिन तक दें, अगर उसे किसी भी प्रकार का इन्फेक्शन या समस्या हो गई है तो। आपको ये ड्रॉप उस बच्चे को जिसे बैक्टीरिया के कारण समस्या है उसे हर महीने तीन-तीन दिन तीन-तीन बार तीन-तीन बून्द देना है, महीने में केवल तीन दिन ही ये ड्रॉप उसे पिलानी है और ऐसा आपको एक साल तक करना है। एक साल के बाद उस बच्चे की रोगप्रतिरोधक क्षमता इतनी अच्छी हो जाएगी की उसे अपच, सर्दी, जुकाम या बुखार नहीं होगा।

अगर बड़ों को यह दवाई लेनी है तो जिनको कोई भी बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो गया है एक चौथाई कप पानी में इसकी 10 से 15 बून्द लेकर इसे दिन में तीन बार पीना है, यदि आपको सर्दी-खांसी है तो आपकी सर्दी-खांसी तीन से चार दिन में ठीक हो जाएगी, और अगर आपको कोई लम्बी या बड़ी बीमारी है जैसे टाइफाइड तो आपको इसका सेवन एक से दो महीने करना है। आप इसका सेवन बीमार होने से पहले भी कर सकते है, ताकि आपको कोई बीमारी हो ही नहीं।

नोट :- R87 होम्योपैथी की सबसे बढ़िया दवाइयों में से एक है, इस दवाई को आपको घर पर रखना चाहिए और इसके लम्बे सेवन से भी इसके कोई Side -Effect नहीं होंगे। यह दवाई आप बीमारी होने से पहले भी ले सकते है ताकि आपको जीवाणु या कीटाणु के कारण कभी इन्फेक्शन या बिमारी न हो।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658

 

Loading...
SHARE
Previous articleB&T Anti Dandruff Oil In Hindi [ डैंड्रफ के लिए होम्योपैथिक तेल ]
Next articleBoerhaavia Diffusa In Hindi [ सूजन की होम्योपैथिक दवा ]
जनसाधारण के लिये यह वेबसाइट बहुत फायदेमंद है, क्योंकि डॉ G.P Singh ने अपने दीर्घकालीन अनुभवों को सहज व सरल भाषा शैली में अभिव्यक्त किया है। इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए वेबसाइट निर्माता भी बधाई के पात्र हैं । अगर होमियोपैथी, घरेलू और आयुर्वेदिक इलाज के सभी पोस्ट को रेगुलर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को अवश्य like करें। Like करने के लिए Facebook Like लिंक पर क्लिक करें। याद रखें जहां Allopathy हो बेअसर वहाँ Homeopathy करे असर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here