रेनिन टेस्ट क्या है? उच्च रक्तचाप निदान के लिए रेनिन टेस्ट और उसकी होम्योपैथिक दवा

Renin Test In Hindi

0 31

रेनिन टेस्ट क्या है?

यह परीक्षण रक्त में रेनिन के स्तर को मापता है। रेनिन एक हार्मोन है जोकि गुर्दे अर्थात किडनी से निर्मित होता है। यह एल्डोस्टेरोन नामक एक अन्य हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करता है, जो अधिवृक्क ग्रंथियों में बनता है। ये गुर्दे के ऊपर स्थित दो छोटी ग्रंथियां हैं। एल्डोस्टेरोन रक्तचाप को संतुलित करने और पोटेशियम और सोडियम को सामान्य स्तर में बनाए रखने में मदद करता है।

यदि रेनिन या एल्डोस्टेरोन का स्तर सामान्य नहीं है, तो यह एक गंभीर अधिवृक्क ग्रंथि विकार का संकेत हो सकता है। क्योंकि दो हार्मोन एक साथ काम करते हैं, तो एल्डोस्टेरोन परीक्षण अक्सर एक ही समय में रेनिन परीक्षण के रूप में किया जाता है।

रेनिन टेस्ट का दुसरे नाम: रेनिन रक्त परीक्षण, प्लाज्मा रेनिन एक्टिविटी (पीआरए) टेस्ट, एल्डोस्टेरोन-रेनिन अनुपात (ARR)

रेनिन टेस्ट का क्या उपयोग है?

रेनिन परीक्षण या एल्डोस्टेरोन परीक्षण का उपयोग यह पता लगाने के लिए किया जाता है कि क्या अधिवृक्क ग्रंथियां बहुत अधिक या बहुत कम एल्डोस्टेरोन बना रही हैं।

यह परीक्षण प्राथमिक एल्डोस्टेरोनिज़्म (पीए) के निदान में विशेष रूप से उपयोगी है, एक बीमारी जो बहुत अधिक एल्डोस्टेरोन होने से होती है। पीए, जिसे प्राथमिक हाइपरल्डोस्टेरोनिज़्म या कॉन सिंड्रोम के रूप में भी जाना जाता है, उच्च रक्तचाप का कारण बनता है । यदि इलाज नहीं किया जाता है, तो उच्च रक्तचाप का खतरा बढ़ जाता है, स्ट्रोक, दिल का दौरा और गुर्दे की विफलता की सम्भावना बढ़ जाती है।

रेनिन परीक्षण की आवश्यकता क्यों है?

यदि आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है, तो आपको रेनिन परीक्षण की आवश्यकता हो सकती है, खासकर तब जब उच्च रक्तचाप की दवाओं से अच्छे परिणाम नहीं मिले रहे हों। परीक्षण दिखा सकता है कि क्या PA ऐसी स्थिति पैदा कर रहा है।

कभी-कभी पीए कम पोटेशियम के स्तर का कारण बनता है, इसलिए आपको कम पोटेशियम के लक्षण होने पर भी इस परीक्षण की आवश्यकता हो सकती है। इस लक्षण में शामिल है:

  • ऐंठन
  • दुर्बलता
  • अत्यधिक प्यास
  • थकान
  • सिरदर्द

रेनिन टेस्ट के दौरान क्या होता है?

डॉक्टर एक छोटी सुई का उपयोग करके आपकी बांह की नस से रक्त का नमूना लेगा। सुई डालने के बाद, टेस्ट ट्यूब या शीशी में थोड़ी मात्रा में रक्त एकत्र किया जाएगा। सुई अंदर या बाहर जाने पर आपको थोड़ा सा डंक लग सकता है। इसमें आमतौर पर पांच मिनट से भी कम समय लगता है।

क्या मुझे इस परीक्षा की तैयारी के लिए कुछ करने की आवश्यकता होगी?

आपको अपने परीक्षण से दो से चार सप्ताह पहले कुछ दवाएं लेने से मन किया जा सकता है। इसमे शामिल है:

  • गर्भनिरोधक गोलियां
  • रक्तचाप की दवाएं
  • मूत्रवर्धक गोलियाँ

आपको अपने परीक्षण से तीन दिन पहले कम नमक वाले आहार का पालन करने के लिए भी कहा जा सकता है।

क्या इस परीक्षण के कोई जोखिम हैं?

रक्त परीक्षण होने का जोखिम बहुत कम होता है। सुई लगाने वाली जगह पर हल्का दर्द या चोट लग सकती है, लेकिन ज्यादातर लक्षण जल्दी दूर हो जाते हैं।

रेनिन टेस्ट के परिणामों का क्या अर्थ है?

यदि आपके परिणाम रेनिन की सामान्य मात्रा से अधिक दिखाते हैं, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि :-

  • एडिसन रोग – एक ऐसी स्थिति जिसमें आपकी अधिवृक्क ग्रंथियां पर्याप्त मात्रा में हार्मोन नहीं बनाती हैं
  • लीवर सिरोसिस
  • डिहाइड्रेशन

यदि आपके परिणाम रेनिन की सामान्य मात्रा से कम दिखाते हैं, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि :

  • प्राथमिक एल्डोस्टेरोनिज़्म (पीए)
  • गुर्दे की बीमारी

अक्सर, आपके रेनिन परीक्षण के परिणामों की तुलना एल्डोस्टेरोन परीक्षण के परिणामों से की जाएगी। ये परिणाम निम्न में से एक दिखा सकते हैं:-

  • सामान्य रेनिन से कम/सामान्य एल्डोस्टेरोन से कम – इसका मतलब यह हो सकता है कि आपको कुशिंग सिंड्रोम है, ऐसा रोग जिसमें अधिवृक्क ग्रंथियां कोर्टिसोल नामक हार्मोन का बहुत अधिक उत्पादन करती हैं।
  • सामान्य रेनिन से कम/सामान्य एल्डोस्टेरोन से अधिक – इसका मतलब यह हो सकता है कि आपको पीए है।
  • सामान्य रेनिन से अधिक / सामान्य एल्डोस्टेरोन से कम – इसका मतलब यह हो सकता है कि आपको एडिसन रोग है।
  • सामान्य रेनिन से अधिक / सामान्य एल्डोस्टेरोन से अधिक – इसका मतलब यह हो सकता है कि आपके पास सेकंडरी एल्डोस्टेरोनिज़्म है। इस रोग में, अधिवृक्क ग्रंथियां बहुत अधिक एल्डोस्टेरोन बनाने का कारण बनती हैं। इन स्थितियों में हृदय, यकृत और गुर्दे के रोग शामिल हैं।

आपके परिणामों के आधार पर, आपका डॉक्टर आपकी स्थिति का इलाज करने के लिए दवा, आहार और जीवनशैली में बदलाव की सिफारिश कर सकता है।

यदि आपके परिणामों के बारे में आपके कोई प्रश्न हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

क्या रेनिन परीक्षण के बारे में मुझे कुछ और जानने की आवश्यकता है?

मुलेठी आपके परीक्षण के परिणामों को प्रभावित कर सकता है, इसलिए आपको अपने परीक्षण से कम से कम दो सप्ताह पहले मुलेठी नहीं खाना चाहिए। लेकिन केवल असली मुलेठी, जो मुलेठी के पौधों से आता है, का यह प्रभाव होता है। अमेरिका में बेचे जाने वाले अधिकांश मुलेठी उत्पादों में कोई वास्तविक मुलेठी नहीं होता है। सुनिश्चित करने के लिए पैकेज सामग्री लेबल की जाँच करें।

यही आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है तो आप इन होम्योपैथिक दवा का सेवन करें

Rauwolfia serpentina Q + Crataegus Q + Passiflora Q – इन तीनो दवा की 8-8 बून्द थोड़े से पानी में डालकर दिन में 3 बार पीना है। इससे उच्च रक्तचाप की समस्या ठीक हो जाएगी।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें