दाद, रिंगवर्म का होम्योपैथिक इलाज, उपचार और दवा – Ringworm ka homeopathic ilaj, upchar aur medicine in hindi

0 485

दाद कीड़े के कारण नहीं होता है। त्वचा का संक्रमण, जिसे टिनिया भी कहा जाता है, डर्मेटोफाइट्स नामक कवक के कारण होता है। कवक सूक्ष्म जीव होते हैं जो आपकी त्वचा, बाल और नाखूनों के मृत ऊतकों से दूर रह सकते हैं जैसे कि एक पेड़ की छाल पर मशरूम उग सकता है।

कारण – दाद त्वचा पर उगने वाले कवक के कारण होता है। एक बार कवक स्थापित होने के बाद, यह छल्ले अर्थात गोलाई में फैलता है। बच्चों को दाद होने की सबसे अधिक संभावना है। जब बच्चे टोपी, कंघी या ब्रश दुसरे के साथ साझा करते हैं तो दाद बच्चे से बच्चे में फैल सकता है। शरीर के दाद को तौलिये, कपड़ों या खेल उपकरणों से फैलाया जा सकता है। दाद के प्रसार को रोकने में व्यक्तिगत स्वच्छता महत्वपूर्ण है। कुत्तों और बिल्लियों को दाद से भी संक्रमित किया जा सकता है, और वे इसे सीधे संपर्क के माध्यम से लोगों को दे सकते हैं

लक्षण – खोपड़ी का दाद – शुष्क, भंगुर बाल या बालों के झड़ने के निशान, गंभीर खुजली, छोटे-छाले या पपड़ीदार त्वचा के लाल चकत्तेदार पैच

शरीर के दाद – छोटे फफोले या पपड़ीदार त्वचा के लाल चकत्तेदार पैच, गंभीर खुजली कभी-कभी होती है

यदि आपको लाल चकत्तेदार त्वचा संक्रमण, त्वचा या खोपड़ी की गंभीर खुजली, झुलसी हुई चकत्ते या बालों का झड़ना हो तो डॉक्टर से सलाह लें।

दाद का होम्योपैथिक उपचार

BACILLINUM 200 – रिंग वर्म के लिए प्रमुख दवा है । इस दवा से उपचार शुरू करें। 24 घंटे के लिए कोई अन्य दवा नहीं लेना है। क्षय रोग के इतिहास वाले रोगी को यह दिया जाता है।

SULPHUR 200 – रिंग वर्म पेट और अम्लता के विकार के साथ हो तो इसे दें । ठंडे पैर और गर्म सिर। रोगी ग्रीष्म प्रकृति का हो। गर्मी सहन न होती हो। नहाने का मन न करता हो।

SEPIA 200 – सल्फर के विफल होने पर इसे दी जानी चाहिए। मूंछों पर दाद को ठीक करता है। खुजलाने से खुजली से राहत नहीं। खुली हवा और ठंडे मौसम में बदतर। हर वसंत में विस्फोट जैसे दाने निकलते हों, ऐसे लक्षण पे SEPIA 200 हफ्ते ने 1 बार लेना है।

TELLURIUM 30 – चेहरे पर दाद को ठीक करता है। आक्रामक और लहसुन जैसे शरीर और पसीने की गंध। कान में संक्रमण के साथ रिंग वर्म की समस्या में लाभदायक है। दाद होने पर इसे अवश्य देना है 30 पोटेंसी में इस्तेमाल करें।

CHRYSAROBINUM 3X – वैस्कुलर दाद। दाद में पपड़ी का जमना। हिंसक खुजली, पैर और कान ज्यादातर प्रभावित होते हैं। आंखों और कान के आस-पास फट जाना। स्किन से दुर्गन्ध आने में यह दवा लाभदायक है।

APIS MEL1000 – दाद खुजली और जलन के साथ। ठंडे अनुप्रयोगों द्वारा बेहतर, दर्द ऐसा मानो डंक मारने जैसा हो, ऐसे लक्षण पे इस दवा का उपयोग करना है। केवल एक खुराक दें।

CALCAREA CARB 30 – फुफ्फुस व्यक्तियों में दाद। पीला और लसीका। हाथ, पैर ठन्डे, पसीना आता है, अण्डे खाने की इच्छा होती है।

ARSENICUM ALB 30 – रिंग वर्म स्कैल्प पर। हेयर में पैच पड़ता है। दुर्बलता और बेचैनी। त्वचा सूखी और खुरदरी। कम अंतराल पर कम मात्रा में पानी की प्यास। ऐसे लक्षण पर आर्सेनिक का इस्तेमाल करना है।

KALI SULPH. 6X – स्कैल्प और दाढ़ी के दाद में उपयोगी दवा है।

RADIUM BROMIDE 30 – दाद जिसमे जो खुली हवा में बेहतर होता है और बिस्तर की गर्मी से बिगड़ जाता है।

RHUS TOXICODENDRON 30 – रिंगवर्म से दुर्गन्धित नमी के रिसाव के साथ बेहद खुजली होती है। बच्चों के स्कैल्प का दाद, जो चेहरे, गले और आँख तक फैलता है।

PSORINUM 200 – तीव्र खुजली, खुजाते-खुजाते खून निकल पड़ता है जो राहत देता है।

प्रभावित भाग से अप्रिय गंध के लक्षण में

ARS SULP FLAVATUM 6 – सफेद पैच के साथ

NATRUM MUR 200 – काले रंग में, तीव्र खुजली

DULCAMARA 30 – कपालवरण का दाद, मोटी पपडियां जिनमे खुरचने पर रक्तस्राव होता है। चेहरे, जननांग तथा हाथों पर दाद। उद्भेद लाल दीखते हैं।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें