सहजन खाने के फायदे अनेक – सहजन के गुण

492

परिचय : 1. इसे शियु या शोभांजन (संस्कृत), सहजन या मुनगा (हिन्दी), शजिना (बंगला), शेवगा (मराठी), सरगवो (गुजराती), मरूंगई (तमिल), मुनगा (तेलुगु) तथा मांरिगां टेरिगोस्पर्मा (लैटिन) कहते हैं।

२. सहजन का वृक्ष 20 -25 फुट ऊँचा, मुलायम छाल तथा भूरे काण्डवाला होता है। सहजन के पत्ते छोटे, गोल पत्रकों के 6-8 जोड़े, 1 फुट की लम्बी सींक पर लगते हैं। सहजन के फूल गुच्छों में टहनियों के अन्त में नीलापन लिये सफेद रंग के होते हैं। सहजन की फलियाँ 6-18 इंच लम्बी, 6 शिराओं से युक्त, कत्थई या काले रंग की लगती हैं। इसमें पक्षसहित (श्वेत मरिच जैसे) बीज रहते हैं।

3. यह भारत में प्राय: सब जगह होता है।

4. फूलों के भेद से सहजन की दो जातियाँ होती हैं – श्वेत शिग्रु (सफेद-कड़वा सहजन) तथा रक्त शिग्रु (लाल रंग का, कम मिलनेवाला)। इनके अतिरिक्त नील शिग्रु का भी उल्लेख मिलता है, पर वह दुर्लभ है।

रासायनिक संघटन : इसके छाल में एक क्षारतत्त्व, दो राल पदार्थ, एक एसिड, म्यूसिलेज क्षार 8 प्रतिशत होते हैं। जड़ में बहुत कड़वी दुर्गन्धयुक्त उड़नशील तेल होता है। बीज स्वच्छ और गाढ़े तेल से भरे होते हैं।

सहजन के गुण : यह स्वाद में चरपरा, क्षारीय, पचने पर कटु तथा हल्का, रूक्ष, तीक्षण और गर्म होता है। यह त्वचा ज्ञानेन्द्रिय पर स्वेदकारी (पसीना लाने में सहायक : डायफ्रेटिक) मुख्य प्रभाव डालता है। यह पाचक, उदर-कृमिनाशक, वायुसारक, शोथहर, शुक्रवर्धक, हृदय-बलदायक, नेत्रों को लाभकर, व्रण को भरनेवाला, दाहशामक, पीड़ाहर, आर्तवजनक होकर मेद कम करता है।

सहजन के फायदे

1. बादी बवासीर : सहजन के पत्तों के स्वरस का सेवन करने से शुष्कार्श (बादी बवासीर) में लाभ होता है।

2. तिल्ली : तिल्ली (प्लीहा) में सहजन की छाल का काढ़ा बनाकर 2 रत्ती पीपल छोटी, 2 रत्ती चित्रक और 4 रत्ती सेंधा नमक मिलाकर देने से लाभ होता है।

3. विद्रधि : अन्दर के फोड़े (विद्रधि) में सहजन की जड़ की छाल खल में पीस छानकर मधु के साथ चटायें। इससे विद्रधि फूट या बैठ जाती हैं।

4. उदरकृमि : शोभांजन का काढ़ा बनाकर मधु के साथ सेवन करने से उदरस्थ कृमि नष्ट हो जाते हैं।

5. उदरशूल : शोभांजन के मूल के रस को कालीमिर्च, सज्जी और शहद मिलाकर देने से उदर-शूल में लाभ होता है।

6. नेत्ररोग : सहजन के स्वरस में मधु मिला अंजन की तरह लगाने से नेत्ररोग में लाभ होता हैं। पीड़ा होने पर इसके पत्तों का सेंक करें।

7. शिर:शूल : सहजन के फलों का नस्य लेने से टयूमर नष्ट होता और सिर का दर्द बन्द हो जाता है।

8. अचेतनता : सन्निपात ज्वर में जब रोगी बेहोश हो जाता है तो सहजन के मूल के रस में मरिंच मिलाकर नस्य दें। इससे रोगी होश में आ जाता हैं।

सहजन से सावधानी : गर्म-प्रकृतिवाले को इसका अधिक सेवन नहीं करना चाहिए।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.