सोलेनम लाइकोपर्सिकम [ Solanum Lycopersicum Medicinal Uses In Hindi ]

648

सारे शरीर में भयानक चबाने की तरह दर्द, इन्फ्लुएंजा अच्छा जो जाने के बाद दर्द रह जाता है, सिर के पिछले हिस्से में दर्द शुरू होकर सारे शरीर में फ़ैल जाता है, सिर का दर्द कम होने के बाद मालूम होता है मानो सिर किसी ने कुचल डाला है, इस प्रकार का दर्द – सारे सिर में मालूम पड़ना, गला बैठ जाना, गले के स्वर में गड़बड़ी, रात में तेज सूखी आक्षेपिक खाँसी – जिससे पूरी रात नींद न आए। कमर में दर्द, दाहिनी ओर के कन्धे की पेशी में और छाती के पेशी में चुभने वाला दर्द, दाहिने हाथ के बीच के स्थान में खूब भीतर की ओर दर्द, दाहिनी कोहनी, कलाई और दोनों हाथों में वात का दर्द इत्यादि कई प्रकार के दर्द में सोलेनम लाइकोपर्सिकम लाभदायक होता है।

निम्नलिखित लक्षणों को देखते हुए सोलेनम लाइकोपर्सिकम का उपयोग किया जाना चाहिए :-

सिर – दर्द सिर के पिछले भाग से शुरू होकर पूरे शरीर में फैलता है। फटने और कुचले जैसा दर्द, दर्द के बंद हो जाने के बाद सिर के खाल और त्वचा छिलने जैसा महसूस होता है।

आँख – आँखें भारी और सिकुड़ी सी रहती है। आँखों के अंदर चारों तरफ दर्द होना, आँख का ठीक से काम न करना, आँख के गोलक सिकुड़े से लगते हैं। ऐसे लक्षण में सोलेनम लाइकोपर्सिकम से लाभ होता है।

नाक – बहुत ज्यादा मात्रा में नाक से स्राव आना, इतना स्राव कि गले तक पहुंच जाता है। नाक से सामने वाले भाग में खुजली होती है जोकि धूल-गर्दे से बढ़ती है। घर के अंदर धूल से बचे रहने पर खुजली कम होती है।

हृदय – नाड़ी की गति धीमी रहना, रोगी के दिल में डर रहना कि कहीं कुछ हो न जाये, चिंता और भय से दिल का जोर-जोर से धड़कने लगना जैसे लक्षण में सोलेनम लाइकोपर्सिकम से फायदा होता है।

सांस – आवाज भारी हो जाती है, दिल में दर्द जोकि सिर तक जाता है, लगातार गला साफ़ करने की इच्छा, खाँसी रात में ज्यादा होती है जिससे नींद नहीं आती, छाती में रुकावट जैसा महसूस होना।

मूत्र – रात में कई बार पेशाब जाने की इच्छा होती है जिससे नींद बार-बार खुलता है। खुली हवा में बून्द-बून्द पेशाब टपका करना जैसे लक्षण मिलने पर सोलेनम लाइकोपर्सिकम का उपयोग अवश्य करें।

अंग – कमर में हल्का-हल्का दर्द बना रहना, पीठ में टीस की तरह दर्द होना, दाहिनी कोहनी और कलाई में गठिया का दर्द होना, निचले अंगों में भी सुई भेदने जैसा दर्द, दाहिनी जांघ में स्नायु दर्द के लक्षण मिले तो सोलेनम लाइकोपर्सिकम का सेवन करें।

रोग में वृद्धि – खुली हवा में, दाहिनी ओर, झटका और हरकत से, तेज आवाज से।

रोग में कमी – कमरे के अंदर, तम्बाकू सेवन से।

सम्बन्ध – तुलना कीजिए : बेलाडोना, यूपाटो-पर्फो, रस टॉक्स, सैग्विेने, कैप्सि।

मात्रा – 3 से 30 शक्ति।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.