स्पाइरीया अल्मेरिया [ Spiraea Ulmaria Homeopathy In Hindi ]

394

यह मूत्रनली के प्रदाह, प्रोस्टेट-ग्लैंड के रोग, प्रमेह की ग्लीट वाली दशा, मिर्गी, हाइड्रोफोबिया व पागल जानवरों के काटने में उपयोग होता है। इसमें भोजननली में दबाव और जलन महसूस होता है, रोगी को ऐसा लगना की उसकी भोजन वाली नली सिकुड़ गई है। अलग-अलग भागों में गरम महसूस होना । स्पाइरिया में सैलिसिलिक अम्ल पाया जाता है ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?