गुहेरी का होम्योपैथिक इलाज – Stye Treatment In Homeopathy

4,202

पलक के ऊपर या नीचे किनारे पर एक विशेष तरह की फुन्सी पैदा हो जाती है जिसे हम गुहेरी के नाम से जानते हैं। कमजोरी, सर्दी लगने, वर्षा पानी में भीगने आदि कारणों से यह हो जाती है।

गुहेरी का होम्योपैथिक इलाज

पल्सेटिला 6 , 30 – गुहेरी रोग की सर्वोत्तम दवा है। इसका सेवन रोग के प्रारम्भ होते ही शुरू कर देना चाहिए, लाभ होगा।

हिपर सल्फर 6 , 30 – पल्सेटिला से लाभ न होने पर इसे देना चाहिये ।

जानें हिपर सल्फर के होम्योपैथिक उपयोग के बारे में

सल्फर 30 – यदि फुंसी और उसके पास की जगह कड़ी पड़ती जाये तो लाभप्रद है ।

मर्कसोल 6, 30 – ऊपरी पलक पर गुहेरी होने पर दें। एल्युमिना 30 भी इसी स्थिति में लाभप्रद है ।

फॉस्फोरस 6, 30 – नीचे वाली पलक पर गुहेरी होने पर दें। स्टेफिसेग्रिया 6 भी इसी स्थिति में लाभप्रद है ।

सीपिया 6, 30 – गुहेरी रोग के साथ अगर पूरीआँख व पलक में भी लाली छा जाये तो इसका प्रयोग करना चाहिए।

जानें सीपिया के होम्योपैथिक उपयोग के बारे में

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
2 Comments
  1. Mohd. Javed says

    पल्सेटिला 6 , 30
    ये 6, 30 लिखने का क्या अर्थ है बताये

    1. Dr G.P.Singh says

      Kisi bhi dawa ka power hota hai. Ise likhne ke bad hi bajar me uplabdh hota hai.

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.