हर प्रकार के गाँठ, ट्यूमर को ठीक करने की होम्योपैथिक दवा

0 151

किसी भी अंग में मांस या फैट के अत्यधिक और अनियमित बढ़ जाने को ट्यूमर कहा जाता है। यह सूजन नहीं है बल्कि मांस बढ़ जाता है। ट्यूमर के कई प्रकार हैं जिनमे कैंसर ट्यूमर, तंतुयुक्त ट्यूमर, चर्बी वाले ट्यूमर मुख्य रूप से हैं। इन ट्यूमर को ठीक करने की कुछ मुख्य होम्योपैथिक दवा की हम यहाँ चर्चा करेंगे।

Homeopathic Medicine For Cancerous Tumor

Condurango 30 पेट के कैंसर के सम्बन्ध में इस औषधि ने बड़ी उपलब्धि प्राप्त की है। अन्य प्रकार के कैंसरों तथा कैंसर-युक्त-ट्यूमरों में भी यह लाभदायक है। मेरा अनुभव है कि इस औषधि की मदर टिंचर लेकर कई ठीक हुए हैं, इससे उनका दर्द जाता रहा है। मेरा विश्वास है कि त्वचा के कैंसर में भी इससे लाभ होता है, ख़ासकर अगर कैंसर खुला हो, उसका अल्सर बन गया हो। ऐसे में 6x शक्ति से ज्यादा लाभ होता है, इस शक्ति से आश्चर्यजनक परिणाम प्राप्त हुए हैं।

Conium 30 अगर ग्लैंड्स सूज कर कड़े पड़ जायें, उनमें दर्द हो, दर्द रात को बढ़ जाय, कैंसर, स्तनों के ट्यूमर या स्तनों में कैंसर जैसा कड़ा होने की प्रवृत्ति शुरु होने पर यह दवा उपयोगी है। अगर ग्लैंड पर किसी खुंडी वस्तु की चोट से उसमें कड़ापन होने लगे जो बाद में ट्यूमर ट्यूमर बन जाये, तब तो यह औषधि विशेष रूप से काम करती है। उदाहरणार्थ, माता का स्तन-पान करते हुए बच्चे के सिर की अचानक चोट से स्तन में कड़ापन आ जाय, तब इसका उपयोग करना चाहिये। त्वचा के कैंसर में एवं कैंसर के कारण अंडकोशों की तथा गर्भाशय की वृद्धि में यह उपयोगी दवा है।

Calcarea Fluor 12x शरीर में गाँठे, गुठली-सी पड़ जाने या स्त्री के स्तन कठोर पड़ने के साथ ग्लैंड के पत्थर की तरह सख्त हो जाने में यह औषधि अत्यन्त लाभप्रद है। इसके प्रयोग से यह गाँठे कैंसर नहीं बन सकेगी। जहाँ कहीं स्तनों में कठोर गाँठें दीख पड़ें वहाँ स्तन को कैंसर से बचाने के लिए इस औषधि को कभी भुलाना नहीं चाहिये।

Lapis Albus 30 इस औषधि का प्रयोग करने से ट्यूमर की गाँठें अल्सर बनने से बच जाती है। छाती, पेट अथवा गर्भाशय में जलनवाला, चुभनेवाला दर्द होना इसका लक्षण है। ग्लैंड्स के आस-पास जो Connective tissues हैं उनमें कठोरता आ जाती है। गर्भाशय के कैंसर में जब उसमें से काला, बदबूदार स्राव निकलने लगे, उसमें भयंकर दर्द होता हो, तब Lapis Albus उपयोगी है।

Silicea 30 यह औषधि कैंसर के दर्द को कम कर देती है। जरायु के ट्यूमर तथा त्वचा-सम्बन्धी रोग में जब गाढ़ा, पीला, बदबूदार स्राव निकलने लगे, तब यह लाभप्रद है।

Hekla Lava 3x हड्डियों के ट्यूमर जो कठोर नहीं बल्कि स्पंजी हों, उनमें इससे लाभ होता है।

Baryta Iod 3x छाती के कैंसरयुक्त ट्यूमर, एवं Ovaries के उन ट्यूमरों के लिए उपयोगी है जो कंठमाला के विष से दूषित (Scrofulous taint) हों।

Plumbum Iodatum 30 स्त्रियों के स्तन के कठोर-स्थल जी धीरे-धीरे ट्यूमर का रूप धारण कर रहे हों। अगर वह स्थल धीरे-धीरे कठोर होता जाय, उसमें कोई परिवर्तन न हो, दर्द भरी सूजन बढ़ती चली जाय, तो समझ लेना चाहिये कि यह ट्यूमर का रूप धारण कर लेगा, और तब इस औषधि का प्रयोग करना चाहिये।

Arsenic 30 Lupus के लिए यह औषधि स्पेसेफ़िक मानी जाती है। चाहे किसी प्रकार का भी ट्यूमर हो, उसमें इस औषधि के सूचक-लक्षण हैं – तेज़ जलन तथा भाले से काटता-सा दर्द, कमज़ोरी, शक्तिहीनता। ट्यूमर हो या न हो, अगर ये लक्षण मौजूद हैं, तो इस औषधि से ट्यूमर में या बिना ट्यूमर में रोगी को लाभ होगा, क्योंकि होम्योपैथी में रोग का नहीं, रोगी का लक्षणों का उपचार किया जाता है।

Hydrastis 30 त्वचा तथा जरायु के कैंसर में यह उपयोगी है। कई चिकित्सकों का कथन है कि छाती की ग्रन्थियों के ट्यूमर में यह औषधि विशेष लाभ करती है, उसके दर्द को शान्त करती है, ट्यूमर की वृद्धि को रोकती है और रोगी के स्वास्थ्य में सुधार करती है। रोगी के पेट के कैंसर में भी इसका प्रयोग किया जाता है। कैंसर के रोग में यह औषधि सबसे अधिक प्रयुक्त होती है और इस रोग के लिए सबसे अधिक प्रसिद्ध है। छाती के कैंसरयुक्त-ट्यूमर को तब तक नहीं निकालना चाहिये जबतक Hydrastis का पूरी तरह से प्रयोग न कर लिया गया हो। हाइड्रैस्टिस से Lupus, Pylorus का कैंसर ठीक हुआ है इसलिये कैंसर में इस औषधि का प्रयोग लाज़मी है। इस औषधि के रोगी के लक्षण हैं – पिचके गाल, रक्तहीन, पीला चेहरा, सुखी त्वचा, भूख का न होना, कब्ज, उत्साह का अभाव।

Radium 30 कैंसर में रेडियम की किरणों का प्रयोग किया जाता है, परन्तु होम्योपैथी में Radium 30 इस रोग के लिये ज्यादा उपयुक्त है। कैंसर बनने से पहले की अवस्था में इससे लाभ हो सकता है। उस समय दर्द हुआ करता है, सारे शरीर में खुजली होती है। मानसिक-दृष्टि से रोगी थका-मांदा, चिड़चिड़ा होता है, त्वचा पर दाने हो जाते हैं, निशान पड़ जाते हैं, जिनमें जलन और खुजली होती है। रोगी बेचैन रहता है, पेट में गर्मी महसूस होती है, हवा भर जाती है, कब्ज़ होता है । 30 शक्ति से नीचे की शक्ति का प्रयोग नहीं करना चाहिये, नीचे की शक्ति के प्रयोग से रोगी के कष्ट बढ़ जाने की संभावना हो सकती है।

Carbo Animalis 30 स्तनों के कैंसर, ग्रन्थियों में छोटी-छोटी गाँठे पड़ना, गाँठे पत्थर की तरह कठोर होना, त्वचा का नीला पड़ जाना, स्तनों की गाँठों में दर्द होना, गर्भाशय के मुंह में कैंसर होना और उसके साथ प्रजनन-मार्ग से पतला, बदबूदार स्राव बहना आदि कैंसर के लक्षणों में Carbo Animalis 30 औषधि उपयोगी है।

Homeopathic Medicine For Fibroid Tumor

Silicea 30 – इस औषधि का काम शरीर के कठोर तंतुओं को ठीक करना है। इसीलिए घावों के जो निशान बने रह जाते हैं उन्हें यह औषधि मिटा देती है, घोल देती है। कठोर ट्यूमर में जब तंतु बढ़ कर ट्यूमर का रूप धारण कर रहे होते हैं, तब इस औषधि से वे ठीक हो जाते हैं इसलिये तंतु-वाले-ट्यूमर में यह उपयोगी औषधि है।

Secale Cor 30 जरायु के तंतुयुक्त-ट्यूमर (Uterine fibroid tumor) में उपयोगी है।

Thyroidinum 3x जिन स्त्रियों के थाइरॉयड ग्लैंड के बढ़ने के कारण ट्यूमर हो रहा हो, उन्हें Thyroidinum 3x का सेवन करना चाहिए।

Carcinosin 200 ट्यूमर के साथ पोषण-क्रिया का अभाव हो, तब देना चाहिये।

Thlaspi Bursa Pastoris Q कैंसर या ट्यूमर के कारण या किसी भी अन्य कारण से अगर जरायु से प्रचुर मात्रा में रक्त-स्राव होता ही जाय, न रुके, तब उपयोगी है।

Aurum Mur 30 – जरायु के ट्यूमर में सबसे अधिक प्रभाव इस औषधि का है।

Homeopathic Medicine For Fatty Tumor

Baryta Carb 30 शरीर में अगर चर्बीयुक्त गाँठे या ट्यूमर दिखलाई दे, तो इसका उपयोग करें। ख़ासकर गर्दन के पास ये चर्बीदार ट्यूमर हुआ करते हैं।

Phytolacca Decandra 30 अगर ट्यूमर में चर्बी का अंश अधिक बनता दिखलाई दे, तो यह औषधि उपयोगी है। चर्बी-युक्त गाँठों के अतिरिक्त कठोर गाँठों के लिये भी यह लाभप्रद है। स्त्रियों के स्तनों की गाँठों के लिये इसका विशेष उपयोग होता है।

Calcarea Carb 30 – चर्बीदार-ट्यूमर के लिये इस औषधि का दिन में एक या दो बार उपयोग किया जा सकता है।

Carcinosin 200 – उक्त रोग में इस औषधि की एक मात्रा सप्ताह में एक बार दे देने से रोग के ठीक होने में सहायता मिलती है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें