Types of Skin Diseases Treatment – चर्म रोग

4,356

त्वचा के अन्य उपसर्गों की लक्षणानुसार चिकित्सा इस प्रकार है

शरीर का बरसात के दिनों में खुजलाना- रसटॉक्स 30- यदि बरसात के दिनों में शरीर में खुजली या जलपित्ती हो तो ऐसी अवस्था में इस दवा को दिन में तीन बार लेते रहना चाहिये । इससे प्रायः बरसात-सर्दी के दिनों में होने वाली खुजली या इसी प्रकार के चर्म-रोगों में फायदा होता है । बरसात में होने वाली खुजली या अन्य उद्भेदों में नैट्रम सल्फ का प्रयोग भी प्रायः किया जाता है, यह दवा भी बरसाती उद्भेदों आदि पर अच्छा कार्य करती है । इसे 30 शक्ति या आवश्यकता के अनुसार 200 या 1M में भी दिया जा सकता है ।

चर्म-रोग की सभी अवस्थाओं में- सल्फर 30- चर्म-रोग की प्राय: सभी अवस्थाओं में सल्फर को कदापि नहीं भूलना चाहिये । इसे 30 या निम्नशक्ति में देने से कभी-कभी चर्म-रोग कुछ बढ़ जाते हैं जो सदृश विधान के अनुसार उपयुक्त हैं परन्तु चर्म-रोग चाहे किसी भी प्रकार का हो, सुनिर्वाचित औषधि देने के पूर्व इस दवा की उच्चशक्ति की एक मात्रा अवश्य देनी चाहिये, क्योंकि अन्य दवाओं के मार्ग में आने वाले अवरोध की सल्फर खोल देती है ।

तेज खुजली में- मेजेरियम 30- तेज खुजली की अवस्था, जिसमें रोगी खुजलाते-खुजलाते परेशान हो जाता है, ऐसी स्थिति में इस दवा का प्रयोग दिन में दो या तीन बार करना चाहिये ।

खाज-खुजली के पुराने विष पर- सोरिनम 30,200- खाज-खुजली के पुराने विष को नष्ट करने के लिये इस दवा को कदापि नहीं भूलना चाहिये। निम्नशक्ति रोग को अच्छा करती है वहीं इस दवा की उच्चशक्ति इसके विष को नष्ट कर देती है ।

चर्म-रोग व अत्यधिक खुजली- फ्लोरिक एसिड 30, 200- किसी भी चर्म-रोग में अत्यधिक खुजलाहट होने पर यह दवा देनी चाहिये । इसकी खुजली शरीर की भिन्न-भिन्न जगहों पर होती है और त्वचा सूखी रहती है । ऐसी अवस्था में इस दवा का प्रयोग आवश्यकता के अनुसार किया जा सकता है ।

त्वचा पर फुन्सियाँ, छिछड़े उतरें व जलन हो- आर्सेनिक 12, 30- त्वचा पर फुन्सियाँ हों, त्वचा से छिछड़े उतरें व जलन हो तो ऐसी स्थिति में इस दवा को दिन में दो बार देना उचित है ।

सिर तथा बालों पर पपड़ी बनने पर-नैट्रम म्यूर 30- ऐसी खुजली जिसमें सिर तथा बालों पर पपड़ी जमती हो व शरीर में खुजली आदि हो तो यह दवा देना उचित है । इसमें प्रायः अण्डकोष, घुटनों के पीछे, पूरे शरीर में बड़ी-बड़ी लाल-लाल पुंसियाँ हो जाती हैं व उनमें खुजली होती है । चमड़ा सूख जाता है ।

सिर पर एग्जिमा व दाद आदि- कॉस्टिकम 30- सिर पर एग्जिमा व दाद आदि हों तो इस दवा का प्रयोग किया जाता है । यदि रोग नया व तीव्र हो तो इस दवा को सल्फर 200 देने के पश्चात्, नैट्रम म्यूर 30 के साथ पर्यायक्रम से देना चाहिये ।

सिर पर एग्जिमा- मेजेरियम 6, 30– यदि सिर पर एग्जिमा होकर पपड़ी जमे, जो वैक्सीन आदि लेने के बाद ही या बाद में अन्य चर्म-रोग उत्पन्न हो गया हो तो इस दवा का प्रयोग उत्तम है । यदि सिर में एग्जिमा हो जिसमें बाल चिपट गये हों, उसमें से पीव निकलती हो, विस्तर की गर्मी से खुजली बढ़ जाती हो तो ऐसी स्थिति में भी यह उत्तम दवा है । इसे दिन में तीन बार लेना चाहिये ।

चर्म पर काले धब्बे या उद्भेद निकलने पर- आर्जेन्टम नाइट्रिकम 30 – जब कभी त्वचा पर काले-काले उद्भेद हों, चमड़ा भूरे रंग का तना हुआ उस पर लसीला पदार्थ लगकर सूख गया हो, शरीर की त्वचा पर अनियमित चकत्ते निकलते हों जिनका रंग बदलकर भूरा या बैंगनी या ताँबिया हो गया हो तो यह दवा दिन में तीन बार दें । यदि रोग पुराना हो गया हो तो सल्फर 200 की एक मात्रा देने के पश्चात् इस दवा को प्रारंभ करें । ग्रेफाइटिस 200 या इससे भी ऊँची शक्ति में लक्षणानुसार देनी चाहिये । मध्यस्थ के रूप में सल्फर 200 भी दी जा सकती है ।

चर्मरोग चाहे किसी प्रकार का हो- एजाडिरेक्ट्टा इण्डिका (नीम) O, ओसिमम सैंक्टम (तुलसी) Q तथा कैलोट्रोपिस जाइगैण्टिया (मदार)Q- तीनों को बराबर मात्रा में तेल या ग्लिसरीन में मिलाकर लगाने से चर्म-रोग में अच्छे परिणाम मिलते हैं । इसे चर्म-रोग के मलहम की तरह भी बाह्य रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें