Urinary Calculus Treatment In Homeopathy – मूत्र पथरी

416

परिपोषण-क्रिया की गड़बड़ी के कारण मूत्र-ग्रन्थि में एक प्रकार का पत्थरसा बनने लगता है जिसे पथरी कहा जाता है । जब यह मूत्र-नली में पहुँच जाती है तो यहाँ फैसकर असह्य दर्द उत्पन्न करती है। साथ ही, मूत्र-रोध, मूत्र-त्याग में जलन, प्रदाह, कभी-कभी रक्त आ जाना आदि लक्षण भी उत्पन्न होते हैं । इस रोग की पहचान का आसान तरीका यह है कि रोगी के मूत्र को एक साफ शीशी या काँच के किसी पात्र में भरकर रख दिया जाये तो बालू-कण जैसा कुछ पदार्थ शीशी के तले में जमा हो जाता है ।

बबॅरिस वल्गैरिस Q- मूत्र-पथरी की वजह से किसी प्रकार का कष्ट महसूस हो तो इस दवा की 5-5 बूंद प्रत्येक 20-20 मिनट के अंतर से लगातार 10-12 बार तक देनी चाहिये । इस प्रकार देने से आराम महसूस होता है।

लाइकोपोडियम 200- जबकि मूत्र में लाल रंग के बालू-कण जैसी तलछट होती हो तो लाभ करती हैं ।

अर्टिका यूरेन्स Q- लाइकोपोडियम से लाभ न होने पर यह दवा देनी चाहिये । इस दवा को गुनगुने पानी में देना अधिक लाभप्रद है ।

एसिड फॉस 2x- जबकि मूत्र में सफेद रंग के बालूकण जैसी तलछट होती ही तो लाभकारी हैं ।

ग्रेफाइटिस 30- यदि मूत्र को रखने पर उसमें सफेद रंग की खट्टी गंधयुक्त तलछट होती हो तो लाभकारी है ।

सीपिया 30- यदि मूत्र को रखने पर उसमें सफेद रंग की या लाल रंग की लसदार तलछट होती ही तो लाभकारी है ।

चिनिनम सल्फ 3x- यदि मूत्र को रखने पर उसमें ईंट के चूरे जैसी लाल या भूरे रंग की अथवा पीले रंग की दानेदार तलछट होती हो तो यह लाभ करती है ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.