Worms Treatment Homeopathy – पेट में कीड़े

1,652

पेट में कीड़े- अधिक मीठा खाने, तले पदार्थ ज्यादा खाने, गरिष्ठ पदार्थ ज्यादा खाने, मिट्टी-खड़िया आदि खाने, बेमौसम के फल नियमित रूप से खाने, पुरानी कब्ज आदि के कारण उत्पन्न हो जाते हैं । कीड़े कई अलगअलग प्रकार के हो सकते हैं । पेट में कीड़े हो जाने पर- पेट-दर्द, मन्दाग्नि, चिड़चिड़ापन, वमन, मिचली, नींद में चौंक पड़ना, कमजोरी, गुदा में खुजली आदि लक्षण प्रकट होते हैं । यों तो यह रोग किसी भी व्यक्ति की हो सकता है पर बच्चों में अधिक देखा जाता है ।

गोलकृमि- सिना 200- डॉ० नैश ने लिखा है कि गोलकृमियों के लिये सिना एक शीर्षस्थ दवा है और इसे देने से पालक निश्चित रूप से नष्ट हो जाती हैं ।

सैन्टोनाइन 1x, 2x, 3x- यदि सिना से लाभ न हो तो सैन्टोनाइन देनी चाहिये- इससे निश्चित ही लाभ होगा । डॉ० घोष का तो यह कथन है कि यह दवा सभी प्रकार के कृमियों में श्रेष्ठ है पर मेरा अनुभव है कि फीताकृमि में यह दवा लाभ नहीं करती है ।

चिलोन Q- डॉ० सरदारमल जैन ने लिखा है कि जब गोलकृमि में- सिना व सैन्टोनाइन- दोनों ही व्यर्थ हो जायें तो चिलोन Q देने से गोल और सूतदोनों प्रकार की कृमियाँ अवश्य ही नष्ट हो जाती हैं ।

चेनोपोडियम Q- यह भी गोलंकृमियों की अत्यन्त श्रेष्ठ दवा है । यदि रोगी गोलकृमियों के कारण अत्यन्त परेशान हो गया हो तो उसे इस दवा की दस बूंद आधे गिलास पानी में डालकर प्रतिदिन तीन बार देनी चाहिये, इससे आराम मिलेगा ।

सूतकृमि- टियुक्रियम 1x- सूत-कृमि होने पर यह दवा देनी चाहिये, अत्यन्त लाभप्रद है । यह दवा बच्चों में होने वाली छोटी कृमियों, जिसमें गुदा में अत्यधिक खुजली होती है, में भी अत्यन्त लाभप्रद है ।

फीताकृमि- फिलिक्स मास 1x, 3x– डॉ० घोष ने अपनी पुस्तक में लिखा है कि फीताकृमियों में यह सर्वोत्तम दवा है । लक्षणानुसार अन्य कृमियों में भी यह दवा दी जा सकती है ।

लम्बे केंचुआ (हुक वर्म)- चेनोपोडियम Q- डॉ० जोफी ने अपने 60 वर्ष के अनुभव के आधार पर कहा था कि इस दवा की दस-दस बूंद आधे कप पानी में मिलाकर दो-दो घण्टे के अन्तर से कुल तीन मात्रायें दें, तीनों मात्रायें सुबह दी जायें और मात्रा देते समय रोगी खाली पेट होना चाहिये (यानि मात्रा देने तक कुछ न खाये) । इस प्रकार मात्र एक या दो दिन देने से ही लम्बे केंचुए नष्ट हो जाते हैं ।

सभी प्रकार की कृमि-कूप्रम ऑक्साइडेटम नाइग्रा 1x- यह सभी प्रकार की कृमियों की महाऔषधि है । प्रायः समस्त प्रकार की कृमियों में इसे दिया जा सकता हैं |

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें