1 Recent Posts

ऐमिल नाइट्रोसम ( Amyl Nitrosum uses In Hindi )

ऐमिल नाइट्रोसम दिल के नाना प्रकार के रोगों में उपयोगी है विशेष करके जब वैज़ो मोटर (Vaso Motor - वह शक्ति जो नसों में खून को विधिवत चलाती है) नर्वस (Nerves - नसें) शिथिल (Paralyzed) हो जाती हैं और चेहरा तमतमाता और सुर्ख हो जाता है। चेहरे और…

अमोनियम वैलेरियनिकम ( Ammonium Valerianicum Uses In Hindi )

- स्नायुशूल ( नाड़ियों में होने वाला दर्द ) सिरदर्द तथा नींद न आना (insomnia) से पीड़ित रोगी स्नायविक (nervous) बातोन्मादी (hysterical) लोगों की औषधि है, हमेशा भारी स्नायविक अनिक्षोत्म्यता (nervous erethism) बनी रहती है। पेट में गैस बनने से…

ऐमोनियम पिक्रेटम ( Ammonium Picratum ) – कन्धे के दाहिनी तरफ ज्यादा दर्द की होम्योपैथिक दवा

- पुराना बुखार, मलेरिया, हूपिंग-खाँसी और कभी-कभी पैदा होने वाला सिर दर्द इत्यादि रोगों में ज्यादा फायदा करती है। इसकी परीक्षा करने की जरुरत है। सिर-दर्द - अक्सर 2-4 दिन बाद कष्टदायक सिर-दर्द होने से रोगी को बहुत तकलीफ होती है। महिलाओं…

अमोनियम आयोडेटम ( Ammonium Iodatum Uses In Hindi )

Ammonium Iodatum Benefits In Hindi इस औषधि का प्रयोग तब किया जाता है जब श्वासनिकाशोथ (bronchitis) तथा स्वरयंत्रशोथ (laryngitis) प्रतिश्यायी फुफ्फुसपाक (catarrhal pneumonia) फुफ्फुशोथ (oedema of Lungs) में आयोडिन के प्रयोग से रोगों को आंशिक…

अमोनिकम डोरेमा, गम अमोनिकम ( Dorema Ammoniacum, Gum Ammoniacum In Hindi )

यह औषधि बूढ़े तथा दुर्बल व्यक्तियों के लिये उत्तम है। इसका रोगी बदमिजाज और ठण्ड के प्रति सम्वेदनशील होता है, वह अपनी गर्दन और ग्रासनली में जलन और खुरचन सी महसूस करता है। पुरानी खांसी (chronic bronchitis) में यह विशेष उपयोगी है। फेफड़ों…

ऐमोनियम कॉस्टिकम ( Ammonium causticum uses In Hindi )

Ammonium causticum का एक प्रधान लक्षण है - नाक से जलन शुदा और खाल गला देने वाला पतला स्राव बहना। वक्षस्थल के बीच की हड्डी के पीछे जलन और दर्द रहना। इसमें श्लेष्मिक झिल्ली में उपदाह होता है, जिससे झिल्लियां फूल जाती हैं और घाव हो जाता है।…

अमोनियम ब्रोमेटम ( Ammonium Bromatum Benefits In Hindi )

अमोनियम ब्रोमेटम के उपयोग और लाभ सिर वक्ष, टांगो में सिकुड़न के साथ दर्द होता है। हाथ की उंगलियों के नाखुनों के नीचे क्षोभ (irritation) का अहसास होता है, जो दांतों से दबाने से कम होती है। स्वरयंत्र तथा ग्रासनली के पुराने प्रतिश्याय…

एम्ब्रोसिया ( Ambrosia Homeopathy In Hindi ) – हे फीवर और हूपिंग खांसी की होम्योपैथिक दवा

Ambrosia Q, 3 - हे फीवर और हूपिंग खांसी में उपकारी है। नाक से पानी की तरह सर्दी निकलना, छींक, ट्रेकिया व श्वासनली के प्रदाह के साथ दमा की तरह के लक्षण प्रकट होते हैं ( एरालिया की तरह ), गला सांय-सांय करता है और…

एलूमिना सिलिकैटा (Alumina Silicata Homeopathy In Hindi

एलूमिना सिलिकैटा का उपयोग और लाभ मस्तिष्क, मेरुदण्ड एंव स्नायुजाल सम्बन्धी पुराने रोगों के लिये यह एक गूढ़ क्रिया करने वाली औषधि है। इसका प्रमुख लक्षण सिकुड़न है, शरीर के किसी भी भाग में सिकुड़न हो इसमें शमिल होती है। शिरा-विस्फार (Venous…

अल्स्टोनिया स्कोलैरिस ( Alstonia Scholaris ) – भोजन के बाद तुरंत पाखाना जाने का होम्योपैथिक…

अल्स्टोनिया स्कोलैरिस होम्योपैथिक दवा का उपयोग छत्रक या खुमीकी जाति का एक खास तरह का वृक्ष - यह मलेरिया से उत्पन्न धीमा बुखार, रक्तहीनता, कमजोरी, अतिसार, अजीर्ण, इत्यादि की उपयोगी दवा है। रक्तामाशय और अतिसार - पेट में मरोड़ के दर्द के…

ऐलनस रूब्रा( Alnus Rubra Homeopathic Remedies Uses In Hindi )

ऐलनस रूब्रा का लाभ और उपयोग यह औषधि मुख्यतः चर्म रोगों, ग्रन्थि निवर्धन तथा पाचक रस के अपूर्ण स्राव के फलस्वरूप होने वाले अजीर्ण के लिये प्रसिद्ध है। यह पोषण को उद्दीप्त करती है और इस तरह गंडमाला सम्बन्धी उपद्रवों और बिवार्धित ग्रन्थियों…

एलियम सैटाइवम (Allium Sativum Uses In Hindi)

एलियम सैटाइवम का होम्योपैथिक लाभ और उपयोग लहसुन का मूल अर्क - बहुत ज्यादा श्लेष्मा निकलना, पुरानी खांसी, थोड़ी सी सर्दी लगते ही खांसी बढ़ जाना तथा हँफनी, खांसी, छाती में दर्द, गाँठों की सूजन, स्तन ग्रंथि का फूलना, सोआस, पेशी में जबरदस्त दर्द…

Alfalfa Ke Fayde In Hindi – अल्फाल्फा क्यू टॉनिक लाभ

अल्फाल्फा टॉनिक का उपयोग और लाभ संवेदी तंत्रिका पर अपनी विशिष्ट क्रिया के कारण अल्फाल्फा का पोषण पर उत्तम प्रभाव है तथा भूख एवं पाचन शक्ति नियमित हो जाती है, जिसके फल स्वरूप मानसिक व शरीरिक शक्ति में भारी सुधार होने वाली बीमारियां इसी…

आलेट्रिस फैरीनोसा (Aletris Farinosa) – स्त्रियों के प्रदर और कब्ज की होम्योपैथिक दवा

आलेट्रिस फैरीनोसा का लाभ और उपयोग अमेरिका के एक प्रकार के पौधे की जड़ से टिंचर तैयार होता है। दुर्बल और क्षीण-शरीर स्त्रियों के गर्भाशय की किसी भी बीमारी के साथ प्रदर और कब्ज रहना और साथ ही पाचन शक्ति का घटना, भोजन के बाद कष्ट, पेट में भार…

आगेव अमेरिकाना ( Agave Americana ) – मुँह का घाव, मसूड़े फूलना का होम्योपैथिक दवा

आगेव अमेरिकाना होम्योपैथिक उपयोग और लाभ इस औषधि का प्रयोग आमाशय और सुजाक में तब किया जाता है जब दर्दनाक लिंगोत्थान की अवस्था गतिशील रहती हैं। मूत्रकृच्छ जलातंक (Hydrophobia) मुखा कृति पीली, मसूढ़े सजे हुए एवं रक्तस्रावी। टांगों पर गहरे…

एग्राफिस नूटैन्स (Agraphis Nutans Uses In Hindi)

एग्राफिस नूटैन्स का होम्योपैथिक उपयोग और लाभ प्रमुखतया सारे शरीर की ढीली-ढीली अवस्था और ठन्डी हवा के झोंके लगने से सर्दी जुकाम के हो जाने का स्वभाव। शरीर और मन आलस से भरा होना। प्रतिथ्ययी अवस्थायें नथूने बंद। कंठशालूक (adenoides) के…

ऐगारिकस मस्केरियस ( Agaricus Muscarius Uses In Hindi)

जिन वृद्ध मनुष्यों के रुधिर की गति मन्द पड़ गई हो, शराब पीने और अधिक विहार आदि कुक्रियाओं से जिनका स्वास्थ्य बिगड़ गया हो और नगें निस्तेज हो गई हों, अक्सर उन्हीं में या उनकी सन्तान में ऐगारिकस के लक्षण पाये जाते हैं। ऐगारिकस रोगी अत्यन्त…

ऐक्टिया स्पाइकेटा ( actaea spicata in hindi ) – वात की होम्योपैथिक दवा

यह स्पेन आदि स्थानों के एक प्रकार के पौधे की जड़ या सोर का टिंचर है। यह साधारणतः छोटी-छोटी सन्धियों - जैसे हाथ की कलाई, अँगुलियों की गांठें, एड़ी इत्यादि में वात के दर्द ( sub acute rheumatic pain of the small joints, especially useful when…

Acetic Acid Uses In Hindi – रक्तस्राव का होमियोपैथी दवा

शोथ, बहुमूत्र, पुराने दस्त, क्षय इत्यादि रोगों में जलन और इस कदर ज़ोर की प्यास का होना, जो कि किसी तरह से न बुझे, परन्तु बुखार में बिलकुल प्यास का न रहना (But not thirst in fever) ऐसेटिक ऐसिड के सूचक लक्षण हैं। ठण्डे पेय कष्टकारक होते हैं।…

Acalypha Indica In Hindi – पेट में मरोड़ सा दर्द, पेट में आवाज़ का होम्योपैथिक दवा

ऐकैलिफा इन्डिका का होम्योपैथिक उपयोग और लाभ यह मुक्तावर्षी के पत्तों से तैयार होती है। यह धीमा बुखार, दिनों-दिन शरीर का दुबला होते जाना, खाँसी, खून मिली खाँसी, यक्ष्मा और फेफड़े से रक्तस्राव में ही अधिक उपयोग होता है। खांसते-खांसते बलगम के…

Loading...

पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें