Browsing Category

Children Disesses

बच्चों की अच्छी सेहत के लिए होम्योपैथिक दवा [ Homeopathic Tonic For Babies In Hindi ]

जिन घरों में छोटे बच्चे होते हैं उन घरों में हर वक्त इस बात का ध्यान रखना पड़ता है कि कहीं किसी कारण बच्चो को कोई बीमारी या परेशानी न हो जाये। बच्चों को आमतौर पर सर्दी, खांसी,…

समय से पहले पैदा हुए बच्चों की समस्याएं [ Premature Baby Complications In Hindi ]

जो बच्चे 280 दिनों से पहले पैदा हो जायें उनको समय से पहले पैदा हुए बच्चे के रूप में जाना जाता है । इसका कारण माँ की कमजोरी, शक्तिशाली भोजन न मिलना, सदमा, स्नायविक कमजोरी, उपदंश…

नवजात शिशु का सांस रुकने का कारण और इलाज

यह कष्ट बच्चे को कई कारणों से हो जाता है । यह स्वयं में कोई रोग नहीं है । बच्चे का साँस दूसरे रोगों के कारण घुटने लगता है । माँ के शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो जाने से ( प्रसव के समय…

बिस्तर में पेशाब करने का अंग्रेजी दवा [ Allopathic Medicine For Bedwetting In Hindi ]

डॉक्टरी में इस रोग को बेड वेटिंग (Bed Wetting) तथा एनुरेसिस (Enuresis) इत्यादि नामों से जाना जाता है । इस रोग में बिना इच्छा के नींद में अथवा दिन में मूत्र निकल जाता है और कपड़े और…

बिस्तर पर पेशाब करने की होम्योपैथिक दवा [ Homeopathic Medicine For Bedwetting ]

अगर आपका बच्चा रात में बिस्तर पे पेशाब कर देते हैं, उसे Bed Wetting की प्रॉब्लम है तो इस पोस्ट में हम इस समस्या के लिए होम्योपैथिक मेडिसिन के बारे में जानेंगे। बच्चों और कभी-कभी…

नवजात शिशु में सांस संबंधी परेशानियों का होम्योपैथिक इलाज

नवजात-शिशु के रोगों पर ध्यान न देने से उनकी मृत्यु होने की सम्भावना रहती है। हमारे देश में अधिकांश नवजात-शिशु इसी कारण मृत्यु का शिकार बनते हैं । अत: हम सर्वप्रथम नवजात-शिशु के…

बच्चों के लम्बाई और वजन बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा [ Homeopathic Medicine For Height And Weight In Hindi ]

इस पोस्ट में हम बच्चों के लम्बाई और वजन बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा के बारे में जानेंगे। आजकल बहुत से बच्चों की लम्बाई और वजन उनके उम्र के अनुसार नहीं बढ़ पाती है। अच्छा खाना खाने के…

हकलाने या तुतलाने का होम्योपैथिक इलाज [ Stammering Homeopathic Medicine in Hindi ]

हकलाना या तुतलाना एक तरह की बीमारी है जो अक्सर बच्चों को हुआ करती है, अगर बच्चा 5 साल से बड़ा है और फिर भी तुतलाता है तो इसे स्पीच डिसऑर्डर कहते हैं। ये कभी-कभी बड़ों को भी हो जाती…

6 महीने के बच्चे का आहार – बच्चों का खाना

मां का दूध छोड़ने के बाद बच्चे को निम्नलिखित वस्तुएं बनाकर दी जा सकती हैं। इनके सेवन से बच्चे का समुचित विकास होता है। 6 महीने के बच्चे का खाना आलू का दलिया सामग्री - आलू 50…

कुपोषण दूर करने के उपाय – कुपोषण की समस्या

संतुलित, स्वच्छ और स्वादिष्ट भोजन शरीर के सामान्य विकास के लिए बहुत आवश्यक है। भोजन में पौष्टिक तत्वों की कमी से बहुत-सी बीमारियां हो जाती हैं। स्वास्थ्य कार्यकर्ता या आक्जीलरी…

बच्चों में वायरल बुखार और होमियोपैथिक इलाज

शिशुओं एवं बच्चों के शरीर का तापमान सामान्य रूप से 36.5 डिग्री सेल्सियस से 37 डिग्री सेल्सियस (97.5 से 98.5 फारेनहाइट) की सीमा में रहता है। 24 घंटे में थोड़ा परिवर्तन होता है, जैसे…

नवजात शिशु की देखभाल

जो बच्चा प्रसूति की किसी भी तकलीफ के बिना पूरे महीनों के बाद जन्मा हो, लगभग ढाई किलो वजन का हो, जन्म लेने के साथ ही रोने लगे, जिसमें कोई क्षति-विकृति न हो, उस बच्चे को सामान्यत:…

स्वस्थ शिशु की परवरिश

शिशु के जन्म के साथ ही उसके तन-मन के वृद्धि विकास की प्रक्रिया आरम्भ हो जाती है। सामान्यतः बच्चा जन्म के साथ ही रोता है और संवेदना का अनुभव करता है। फिर 1-2 दिन तक वह अपनी आंखें…

बच्चे को दूध पिलाना

दूध में अनेक गुण हैं और यह सम्पूर्ण आहार है। प्रकृति ने नवजात शिशु के लिए सिर्फ दूध की ही व्यवस्था कर रखी है। शरीर के विकास के लिए दूध में समस्त आवश्यक एवं पौष्टिक तत्त्व होते हैं।…

Bachon Ki Bimariyan – बच्चों की बीमारियाँ

बाल समुदाय की काली खांसी, टिटनेस, पोलियो, टी.बी., मीजल्स, खसरा आदि संक्रामक रोगों से बचाव होमियोपैथिक चिकित्सा द्वारा ही संभव है। साथ ही यदि समय से, टीकों की जगह होमियोपैथिक दवाएं…

मीजल्स ( खसरा ) का इलाज

मीजल्स आजकल होने वाली बहुत आम बीमारी है। वैसे तो यह पूरी सर्दियों में कभी भी हो सकती है, लेकिन सर्दियां खत्म होते समय फरवरी के अंत तथा मार्च में, जब दिन में काफी गर्मी होती है मगर…

गलसुआ – कारण, लक्षण और उपचार ( मम्स )

मम्स, जिसे स्थानीय बोल चाल में गलसुआ कहते हैं, एक प्रकार के वायरस से होने वाली बीमारी है, जिसमें कान के पीछे व आसपास सूजन आ जाती है। ज्यादातर यह 5 वर्ष से 15 वर्ष तक की उम्र के…