बैसीलीनम ( Bacillinum Homeopathy In Hindi )

3,665

इस औषधि का यक्ष्मा रोग की चिकित्सा में सफलतापूर्वक उपयोग किया जा चुका है अर्थात इसके प्रयोग से यक्ष्माग्रस्त रोगी के बलगम की मात्रा घट जाती है, फेफड़ों में अधिक हवा जाने लगती है और बलगम में पीब का अंश घट जाता है। यह औषधि उन बूढ़ों के फेफड़ों की बीमारियों में बहुत लाभदायक है, जिन्हें नजले और जुकाम की पुरानी शिकायत रहती है, जिनके फेफड़ों में रक्तसंचार भली भांति नहीं हो पाता। रात को दम घुटने के दौरे पड़ते हैं, और खांसने में कठिनाई होती है, दांतों पर जमी हुई मैल उतरती है, बार-बार सर्दी-जुकाम होने की शिकायत रहती है।

सिर – रोगी का स्वभाव चिड़चिड़ा होता है, सिर में तेज दर्द रहता है, जो सिर की गहराई से उठता है, ऐसा लगता है, जैसे किसी ने सिर पर रस्सी बांधी हो। पलकों का छाजन व दाद ठीक हो जाता है।

पेट – आंत्र यक्ष्मा (tabes mesenterica), जलपान करने से पहले पतले दस्त, पेट में दर्द रहता है, दुसाध्य मलबद्धता (obstinate constipation) के साथ दुर्गन्धित हवा निकलती है।

दमा – तर दमा, नजले के कारण होने वाला श्वासकष्ट। श्वास नलियों में बुलबुले उठने की ध्वनि के साथ श्लेष्मा पूर्ण बलगम होता है। यहां पर इसे उपयोग में लाने का स्पष्ट संकेत रहता है।

चर्म – रूसी, दाद, त्वचा का एक विशेष रोग, इसमें बारीक कीलें निकलती हैं, उन पर कभी खुरण्ड नहीं जमते, ये बार-बार निकलती है, गर्दन की ग्रन्थियां बढ़ी हुई, पलकों का छाजन और स्पर्शकातर।

मात्रा – तीसवीं शक्ति के नीचे की शक्ति नहीं दी जानी चाहिए और न ही चार बार दोहरानी चाहिए। प्रतिसप्ताह एक मात्रा काफी है। यह औषधि अपना प्रभाव बहुत शीघ्र दिखलाती है, अन्यथा दोहराने की आवश्यकता नहीं होती।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें