Browsing Category

Women Diseases

डिलीवरी के बाद होने वाली आम समस्या का उपचार

डिलीवरी के बाद उत्पन्न होने वाले विभिन्न उपसर्गों में होम्योपैथिक औषधियों का प्रयोग नीचे लिखे अनुसार करना चाहिए:- पसीना बन्द हो जाना - डल्कामारा 6 अथवा कैमोमिला 6 । नींद न…

आफ्टर डिलीवरी हेयर फॉल ट्रीटमेंट इन हिंदी

डिलीवरी के बाद कमजोरी आदि के कारण सिर के बाल झड़ने लगें तो लक्षणानुसार निम्नलिखित होम्योपैथिक औषधियों का प्रयोग करना चाहिए :- सीपिया 30, 200 - यदि ऋतुस्राव बन्द होने के कारण केश…

प्रसव काल से पहले के झूठे दर्द [ Homeopathy For False Labor Pains ]

प्रसव का समय पूरा होने के एक दो दिन पूर्व ही जब झूठे दर्द होने आरम्भ हो जाय, तब निम्नलिखित औषधियाँ देनी चाहिए । स्मरणीय है कि ये दर्द भी प्रसवकालीन दर्द जैसे ही अत्यधिक कष्टकर होते…

प्रसव के कष्ट का इलाज [ Delivery troubles ]

प्रसव होने से कुछ मास अथवा कुछ समय पूर्व निम्नलिखित औषधियों का सेवन विभिन्न प्रकार के कष्टों को दूर करता है सिमिसिफ्यूगा 3, 30 - इस औषध के प्रसव के 3-4 मास पूर्व सेवन करने से…

प्रेगनेंसी (गर्भावस्था) में होने वाली समस्या का इलाज [ Problems During Pregnancy In Hindi ]

यहाँ गर्भावस्था में होने वाली समस्याओं का होम्योपैथिक इलाज बताया गया है। निम्नलिखित औषधियां गर्भावस्था के विभिन्न उपसर्गों में लक्षणानुसार दें :- आर्सेनिक 30 - सम्पूर्ण शरीर में…

गर्भवती महिला को चक्कर आने की दवा

गर्भावस्था में चक्कर आने के लक्षणों में निम्नलिखित औषधियों को दें :- जेल्सीमियम 3, 30 - यह इस रोग की श्रेष्ठ औषध है। सिर की गुद्दी से चक्कर उठने में विशेष हितकर है । लैकेसिस…

गर्भावस्था के समय में दांत में दर्द का होम्योपैथिक इलाज

गर्भावस्था में दांतों में दर्द होने पर निम्नलिखित औषधियाँ हितकर है :- कैल्केरिया-कार्ब 30 - ठण्डी हवा लगने अथवा अधिक गर्म या ठण्डी वस्तु सेवन करने के कारण दांत में दर्द होने…

गर्भावस्था में टांगों में सूजन और शिराओं में शोथ का होम्योपैथिक इलाज

गर्भावस्था में टांगें सूज जाने और शिराओं में शोथ होने पर निम्नलिखित औषधियाँ हितकर हैं :- एपिस 3 - टांगों तथा पावों का सूजकर कड़ा हो जाना, सूजन वाली जगह का फूल कर मोम जैसा दिखाई…

गर्भावस्था के दिनों में पांवों तथा पेट में ऐंठन होने का होम्योपैथिक इलाज

गर्भावस्था के दिनों में पांवों तथा पेट में ऐंठन होने पर लक्षणानुसार निम्नलिखित औषधियों का प्रयोग करना चाहिए :- कोलोसिन्थ 6, 30 - पांवों में ऐंठन तथा तीव्र दर्द - जो आराम करते…

गर्भावस्था में कोयला, चुना खाने की इच्छा का होम्योपैथिक इलाज

गर्भावस्था में कोयला, खड़िया आदि वस्तुएं खाने की विचित्र इच्छा होने पर निम्नलिखित औषधियाँ हितकर हैं :- कार्बो-वेज 30 - कोयला, खाने की इच्छा होने पर, माँसाहारियों की माँस सेवन…

गर्भावस्था में नींद न आने का होम्योपैथिक इलाज

गर्भावस्था में नींद न आने के लक्षणों में निम्नलिखित औषधियों को दें :- एकोनाइट 6, 30 - भय अथवा मानसिक-उत्तेजना के कारण नींद न आना, त्वचा पर खुश्की तथा गर्मी, गर्भिणी की घबराहट,…

गर्भावस्था में दस्त होने का इलाज [ Diarrhea During Pregnancy In Hindi ]

गर्भावस्था में दस्त होने पर निम्नलिखित औषधियों का प्रयोग करें :- मर्क-सोल 30, 200 - टट्टी में कभी आंव, कभी खून आना, आंव अधिक होने पर 'मर्क-सोल' तथा अधिक खून होने पर 'मर्क-कोर'…

प्रेगनेंसी में कब्ज ( कॉन्स्टिपेशन ) का होम्योपैथिक इलाज

गर्भावस्था में कब्ज हो जाने पर लक्षणानुसार निम्नलिखित औषधियों का प्रयोग करना चाहिए :- कोलिनसोनिया 1x, 3, 30 - यह गर्भावस्था के कब्ज की श्रेष्ठ औषध है। इसे प्रति तीन घण्टे बाद…

गर्भावस्था में मुंह से लार या पानी गिरने का होम्योपैथिक इलाज

अधिक खाने के कारण अथवा पारा-मिश्रित वस्तुएं अथवा औषधियाँ सेवन करने के कारण मुँह से पानी गिरने पर निम्न औषधियों को लक्षणानुसार दें :- मर्क-बाई 6 वि० - यह इस रोग की मुख्य औषध है ।…

गर्भावस्था में होने वाली उल्टी रोकने का होम्योपैथिक इलाज

गर्भावस्था में उल्टी (वमन), मितली तथा मुँह में पानी आने के उपसर्ग प्राय: प्रात:काल बढ़ते हैं। ये उपसर्ग कुछ दिनों कर रहने के बाद स्वयं ही दूर हो जाते हैं, परन्तु यदि सहज ही दूर न…

गर्भावस्था में बार बार पेशाब जाने का उपचार

गर्भावस्था में - पेशाब में दर्द होना, बार-बार आना तथा एल्ब्यूमिन आना आदि मूत्राशय के कष्टों में निम्नलिखित औषधियों का लक्षणानुसार प्रयोग करें :- बेलाडोना 30 - दिन में पेशाब का…

गर्भावस्था में कमर और पीठ दर्द [ Backache During Pregnancy ]

गर्भावस्था में कमर में दर्द अथवा भार का अनुभव होने पर लक्षणानुसार निम्नलिखित औषधियों का प्रयोग करें :- कालि-कार्ब 30, 1M - कमर में तीव्र दर्द, कमर का अकड़ जाना, भीतर के सम्पूर्ण…

बार-बार गर्भपात का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Remedies For Abortion In Hindi ]

विवरण - गर्भ-स्थिति के समय दो मास तक के भ्रूण के निकल जाने को 'गर्भस्राव' तथा इससे अधिक 6 मास तक के गर्भस्थ-शिशु के निकल जाने को 'गर्भपात' कहते हैं । सातवें महीने के पूर्व तक शिशु…

सभी प्रकार के मासिक धर्म की समस्या का इलाज

ऋतुधर्म सम्बन्धी अन्य प्रमुख उपसर्गों के लिए हितकर औषधियों के विषय में निम्नानुसार समझना चाहिए :- रज:स्त्राव में समस्या का होम्योपैथिक दवा (1) अत्यधिक मात्रा में, ढेले-ढेले जैसा…

मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव (मेनोरेजिया) होम्योपैथिक इलाज

विवरण – ऋतुस्राव के समय अधिक परिमाण में खून निकलना, ऋतुस्राव का अधिक दिनों तक होते रहना, सप्ताह में दो अथवा इससे अधिक बार ऋतुस्राव होना-ये सभी लक्षण ‘अति रजः’ के हैं । जरायुग्रीवा…
Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?