Browsing Category

Urinary Diseases

मूत्रपिण्ड ( मूत्र पथरी ) रोकने की चिकित्सा

विवरण – मूत्रपिण्ड कोष में उत्पन्न पथरी अपने उत्पत्ति स्थान पर ही बहुत समय तक रुकी रह सकती है तथा उस हालत में रोगी को किसी कष्ट का अनुभव भी नहीं होता। कभी-कभी कमर में हल्का दर्द…

मूत्राशय की पथरी का इलाज [ Homeopathic Medicine For Urinary Stones In Hindi ]

विवरण – मूत्र-पथरी का निर्माण मूत्र ग्रन्थियों, मसानों तथा गुर्दों में होता है। यह पथरी जब तक मूत्र-ग्रन्थि में रहती है, तब तक दर्द या तो होता ही नहीं है अथवा बहुत कम होता है। जब…

हर प्रकार के मूत्र संबंधी समस्या का होम्योपैथिक इलाज

विभिन्न प्रकार के मूत्र-विकारों में उपयोगी औषधियाँ निम्नलिखित हैं :- फेरम-फॉस 6x – यदि पेशाब को रोका न जा सके तो इस औषध का प्रयोग लाभकारी रहता है । सौलिडैगो विर्गा Q – जिन…

प्रोस्टेट ग्लैंड के बढ़ने का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Remedies For Prostate Enlargement Hindi ]

वृद्धावस्था में प्रोस्टेट ग्रंथि के बढ़ जाने में बहुत कष्ट होता है। कुछ लोगों के मत से इसकी कोई चिकित्सा नहीं है , केवल शल्य क्रिया द्वारा की इसका उपचार किया जा सकता है। परन्तु…

प्रोस्टेट क्योर इन होमियोपैथी [ Prostate Ka ilaj In Hindi ]

पुरुष-मूत्राशय के मुख के चारों ओर अथवा मूत्राशय ग्रीवा में जो एक कड़ी गाँठ होती है, उसे मूत्राशय मुखशायी ग्रन्थि अथवा प्रोस्टेट ग्लैण्ड कहा जाता है। इस ग्रन्थि में से एक प्रकार का…

पेशाब की स्पेसिफिक-ग्रेविटी का कम या अधिक होना

पेशाब की स्पेसिफिक-ग्रेविटी कम या अधिक होने में निम्नलिखित औषधियाँ लाभ करती हैं । स्मरणीय है कि पेशाब की नार्मल स्पेसिफिक-ग्रेविटी 1.010 से 1.015 तक होती है । प्लम्बम 3, 30 –…

पेशाब के तलछट में रेत जमने का इलाज [ Sediments In Urine ]

इस पोस्ट में पेशाब के तलछट में रेत जमने, पेशाब में आग्जेलेट, फास्फेट अथवा यूरेटस की मात्रा अधिक होने का होम्योपैथिक इलाज बताया गया है। लाइकोपोडियम 30 – गुर्दे के दर्द में अथवा…

बार बार पेशाब आना का इलाज – रात में बार बार पेशाब आना

इस पोस्ट में बार बार पेशाब आना, रात में पेशाब करने के लिए बार-बार उठना, पेशाब का देर से निकलना और जलन का होम्योपैथिक दवा बताया गया है। बार-बार पेशाब जाने के लक्षणों में…

पेशाब में रुकावट का इलाज – पेशाब रुक जाना

इस पोस्ट में मूत्राशय के भरे रहने पर भी पेशाब का न निकलने का होम्योपैथिक दवा के बारे में जानेंगे। एकोनाइट 30 – मूत्र के बन्द हो जाने तथा मूत्राशय में पेशाब के भरे रहने पर भी…

मूत्र ग्रंथि या गुर्दे में रक्त-संचय [ Congestion of Kidneys Homeopathy Hindi ]

मूत्र-ग्रन्थियों अर्थात् गुर्दों में रक्त-संचय होने पर पेशाब आना कठिन हो जाता है। यदि आता भी है तो बूंद-बूंद आता है और उसमें भी केवल रक्त ही होता है। इस रोग में लक्षणानुसार…

मूत्राशय में सूजन होम्योपैथिक उपचार [ Chronic inflammation of Bladder Homeopathy Hindi ]

इस पोस्ट में मूत्राशय में सूजन, शोथ, पेशाब करने में समस्या का होम्योपैथिक दवा बताया गया है। कैंथरिस 6, 30 – यह मूत्राशय के पुराने शोथ की सर्वोत्तम औषध है। इसकी 2 बून्द दिन में 3…

मूत्राशय का पक्षाघात (लकवा) होम्योपैथी उपचार [ Paralysis of Bladder Homeopathy Hindi ]

मूत्राशय के पक्षाघात में निम्नलिखित औषधियों का लक्षणानुसार प्रयोग हितकर सिद्ध होता है:- ओपियम 3, 30, 200 – पेशाब के निकलने में बहुत देर लगना, पेशाब की धार का बहुत कमजोर होना,…

मधुमेह (डायबिटीज) का होम्योपैथिक उपचार [ Homeopathic Remedies For Diabetes In Hindi ]

इस पोस्ट में हम मधुमेह (डायबिटीज) होने के कारण और उसके होम्योपैथिक दवा के बारे में जानेंगे। कारण – इस रोग के उत्पन्न होने का मूल कारण अभी तक ज्ञात नहीं हो सका है । रोग की…

बहुमूत्र का होम्योपैथिक इलाज [ Homeopathic Medicine For Polyuria In Hindi ]

इस पोस्ट में हम बहुमूत्र रोग के कारण और उसके होम्योपैथिक इलाज के बारे में जानेंगे। लक्षण – बहुमूत्र रोग मुख्यतः दो प्रकार का होता है :- (1) यदि पेशाब अधिक परिमाण में जाता हो तो…

पेशाब में जलन और दर्द का होम्योपैथिक इलाज

लक्षण – बार-बार पेशाब लगना, अत्यन्त कष्ट के साथ बूंद-बूंद पेशाब होना अथवा पेशाब का बिल्कुल ही न होना तथा पेशाब होते समय अत्यधिक जलन होना आदि इस रोग के लक्षण हैं। यह रोग बहुत अधिक…

पेशाब का अपने आप निकल जाना होम्योपैथिक इलाज [ Enuresis Homeopathic Remedy Hindi ]

इस पोस्ट में अपने आप पेशाब निकल जाने का होम्योपैथिक इलाज के बारे में बताया गया है। कारण – मूत्रनली में पक्षाघात हो जाने अथवा मूत्राशय के मुख की संकोचक पेशियों के ढीले पड़ जाने…

Homeopathic Remedies For Cystitis In Hindi [ मूत्राशय प्रदाह होम्योपैथी ]

कारण - मूत्राशय में ठण्ड, सर्दी बैठ जाना, चोट लगने, मूत्र-नली में सिकुड़ जाने, पेशाब उतारने के लिए मूत्राशय में सलाई डालने, प्रौस्टेट ग्लैण्ड की सूजन पथरी, सूजाक आदि कारणों से…

Homeopathic Medicine For Uremia In Hindi [ मूत्र रोध सम्बन्धी विकार ]

कारण - मूत्र-रोध अथवा मूत्र-नाश के कारण जब शरीर के दूषित पदार्थ बाहर न निकल कर रक्त में ही रह जाते हैं, तब मूत्र-रोध के साथ ही जो रक्त-दोष सम्बन्धी अनेक उपसर्ग प्रकट होते हैं,…

सुजाक का उपचार – सुजाक की चिकित्सा

होमियोपैथिक चिकित्सा विज्ञान के जनक डॉ. हैनीमैन ने तीन प्रकार के विषों को सभी प्रकार के रोगों को उत्पन्न करनेवाला बताया है। इन तीन विषों के नाम हैं - 'सोरा', सिफिलिस' और…

बार बार पेशाब आना होमियोपैथिक इलाज

बार-बार पेशाब जाने के लक्षणों में निम्नलिखित औषधियों का प्रयोग करना चाहिए - पल्सेटिला 30 - बार-बार पेशाब जाना, लेटने पर पेशाब जाने की इच्छा में वृद्धि, मूत्र-त्याग के समय तथा बाद…