Fever Treatment In Hindi – फीवर का इलाज़

572

वर्षा या पानी में भीगने, अत्यधिक शारीरिक परिश्रम करने, तेज धूप में अधिक देर रहने, सर्दी लगने अथवा अन्य कारणों से बुखार आ जाता है। इसे ही सामान्य ज्वर कहते हैं ।

एकोनाइट 30- ज्वर की प्रथमावस्था में दें । खासकर ठण्डी व सूखी प्यास लगे, बेचैनी हो- तब इस दवा का प्रयोग करना चाहिये ।

बेलाडोना 6, 30- सर्दी लग जाना, ऑख-मुंह लाल व चेहरे पर तमतमाहट आदि लक्षणों में इसका प्रयोग करना चाहिये ।

डल्कामारा 6, 30– बरसात के पानी में भीगने की वजह से अथवा तर (नम) हवा लगने के कारण आने वाले ज्वर में इससे लाभ होता है ।

रसटॉक्स 3, 30– वर्षा-पानी में भीगने की वजह से, ठण्डी हवा लगने के कारण होने वाले ज्वर में इसका प्रयोग करना चाहिये ।

पल्सेटिला 200– तेल-धी से बनी वस्तुओं को ज्यादा खाना, स्नान के बाद ज्वर आ जाना, ज्वर में प्यास बिल्कुल न हो- इन लक्षणों में यह दवा लाभप्रद सिद्ध होती है |

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
2 Comments
  1. Sachin Tyagi says

    Very Good Information on Fever thanks .

    1. Dr G.P.Singh says

      Thanks

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें