सारकॉइडोसिस का होम्योपैथिक इलाज [ Sarcoidosis Homeopathic Treatment In Hindi ]

0 56

सारकॉइडोसिस एक ऐसी बीमारी है जिसमें शरीर के विभिन्न अंगों, आमतौर पर फेफड़े और लिम्फ नोड्स में सूजन वाली कोशिकाओं (ग्रैनुलोमा) के छोटे-छोटे थक्के बन जाते हैं, जिससे इनमे सूजन हो जाती है। अन्य हिस्से भी प्रभावित हो सकते हैं जैसे आँखें, त्वचा, हृदय, जिगर, मस्तिष्क, गुर्दे, हड्डियाँ, मांसपेशियाँ, जोड़ और तिल्ली इत्यादि। सारकॉइडोसिस के लिए होम्योपैथी को केवल सहायक उपचार के लिए ही माना जाना चाहिए, दुसरे उपचार के साथ अगर होमियोपैथी को शामिल करेंगे तो लक्षणों में बहुत जल्दी से सुधार आ जायेगा।

सारकॉइडोसिस का कारण

सारकॉइडोसिस का सटीक कारण अभी तक ज्ञात नहीं है। लेकिन यह एक ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया से उत्पन्न होने वाला रोग माना जाता है। इस मामले में शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कुछ पदार्थों की गलत प्रतिक्रिया से शरीर के स्वस्थ ऊतक को नष्ट करना शुरू कर देती है। कुछ शोधों के अनुसार, बैक्टीरिया, वायरस, धूल, रसायन या शरीर के अपने प्रोटीन ट्रिगर करते हैं तब सारकॉइडोसिस हो जाते हैं। ये सभी कारणों से प्रतिरक्षा प्रणाली अर्थात इम्युनिटी सिस्टम असामान्य रूप से प्रतिक्रिया करने लगती है, जिसके परिणामस्वरूप व्यक्तियों के विभिन्न अंगों में ग्रैनुलोमा नामक सूजन के पैटर्न में प्रतिरक्षा कोशिकाओं का संग्रह होता है। कोई भी व्यक्ति में यह विकसित हो सकता है, लेकिन इस रोग के पारिवारिक इतिहास वाले व्यक्ति को इसे विकसित करने का जोखिम अधिक है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में इसके विकास की संभावना बहुत कम है। इसके लक्षण ज्यादातर 20 से 60 साल की उम्र के बीच के लोगों में दिखाई देते हैं।

सारकॉइडोसिस का लक्षण

कई मामलों में कोई भी लक्षण उत्पन्न नहीं होते हैं, परन्तु जब ये होते हैं तो वे निर्भर करते हैं कि कौन सा अंग इससे प्रभावित है। कुछ मामलों में लक्षण धीरे-धीरे विकसित होते हैं और कई वर्षों तक बने रहते हैं। जबकि अन्य मामलों में लक्षण अचानक उत्पन्न होते हैं और जल्दी ठीक भी हो जाते हैं।

सामान्य लक्षणों में थकान, वजन में कमी, दर्दनाक जोड़ों में सूजन और लिम्फ नोड्स में सूजन हो जाती है। जब फेफड़े प्रभावित होते हैं तो उत्पन्न होने वाले लक्षणों में सूखी खांसी, सीने में दर्द, घड़घड़ाहट और सांस की तकलीफ होती है। जब यह आंखों को प्रभावित करता है तो आंखों में दर्द, दृष्टि का धुंधलापन, आंखों की लालिमा, सूखी आंखें, खुजली वाली आंखें, आंखों में जलन और प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता होती हैं। त्वचा के शामिल होने की स्थिति में त्वचा पर दाने के साथ त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ जाते हैं जिनमें मुख्य रूप से एड़ियों या पिंडली की हड्डी पर लाल या लाल-बैंगनी रंग होता है। ये गर्म और छूने से कोमल महसूस होते हैं। अन्य संकेतों में सामान्य की तुलना में गहरे या हल्के रंग की त्वचा शामिल है, आमतौर पर त्वचा के नीचे के नोड्यूल, ऊतक के आसपास निशान, नाक, गाल और कान पर घाव होते हैं। हार्ट के लक्षणों में छाती में दर्द, सांस की तकलीफ, धड़कन, अनियमित दिल की धड़कन, बेहोशी और एडिमा शामिल हैं।

सारकॉइडोसिस में होने वाले जटिलताओं को समझते हैं :-

इन मामलों में कई दीर्घकालिक जटिलताएं पैदा हो सकती हैं। सबसे पहले, यह फेफड़ों से संबंधित है जहां यह फाइब्रोसिस का कारण बन सकता है जिसका अर्थ है कि सांस लेने में मुश्किल हो जाती है। कई मामलों में यह उच्च रक्तचाप को भी जन्म दे सकता है। दूसरी बात यह है कि आंखों के मामले में यह मोतियाबिंद (आंख के लेंस के बादल) और रेटिना को नुकसान पहुंचा सकता है जिससे अंधापन हो सकता है।

आगे जब यह हृदय को प्रभावित करता है तो यह रक्त के प्रवाह में रुकावट करता है जिससे दिल की धड़कन असामान्य हो सकता है। यह गुर्दे की पथरी का कारण हो सकता है, गुर्दे की कार्यक्षमता में बाधा उत्पन्न कर सकता है और गुर्दे की विफलता का कारण बन सकता है। अंत में जब यह तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है तो इससे चेहरे की मांसपेशियों का पक्षाघात हो सकता है।

सारकॉइडोसिस के लिए होम्योपैथी दवा

होम्योपैथी उपचार के पारंपरिक तरीके के साथ सारकॉइडोसिस के लक्षणों का प्रबंधन करने के लिए एक सहायक के रूप में सहायता प्रदान करता है। इन मामलों में रोगनिवारक राहत प्रदान करने के लिए होम्योपैथिक दवा का बहुत अच्छा स्कोप है। ये दवाएं ओवरएक्टिव इम्यून सिस्टम को मॉडरेट करके काम करती हैं। हालांकि ये दवाएं अंगों को पहले से हुई क्षति को उलट नहीं सकती हैं लेकिन इसकी आगे की प्रगति को रोकने का काम कर सकती हैं। वे फेफड़ों, त्वचा, जोड़ों, आंखों, थकान से संबंधित हल्के से मध्यम लक्षणों का शमन करने के लिए प्रभावी हैं। पूरी तरह से मामले के विश्लेषण के बाद होम्योपैथिक दवाओं का चयन व्यक्ति के लक्षणों के आधार पर किया जाता है। तो किसी को होम्योपैथिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में ही कोई भी होम्योपैथिक दवा लेने पर विचार करना चाहिए। होम्योपैथिक दवाएं हल्के से मध्यम मामलों के लिए सबसे अधिक सहायक होती हैं, लेकिन गंभीर मामलों में पारंपरिक उपचार की मदद लेनी चाहिए। उपचार के पारंपरिक तरीके से तत्काल मदद की आवश्यकता वाले कुछ गंभीर लक्षणों में तीव्र साँस लेने में कठिनाई, दिल की धड़कन, दृष्टि परिवर्तन और चेहरे की सुन्नता शामिल हैं। अब अगर अचानक बहुत तकलीफ बढ़ जाये तो आप तुरंत दुसरे माध्यम एलोपैथी की सहायता लें फिर मामला सुधर जाये तो होमियोपैथी का सेवन करते रहें।

Bryonia alba 30 – सूखी खांसी के लिए, सीने में दर्द

यह एक प्राकृतिक औषधि है जिसे ब्रायोनिया एल्बा के पौधे से तैयार किया जाता है जिसे आमतौर पर सफेद ब्रायोनी और जंगली हॉप्स के रूप में जाना जाता है। यह संयंत्र परिवार cucurbitaceae के अंतर्गत आता है। यह सूखी खांसी और सीने में दर्द के लिए एक बहुत ही अच्छी दवा है। इस दवा के लक्षण में सीने में दर्द एक तेज सुई चुभने के प्रकार का होता है। ज्यादातर दर्द खांसी और गहरी सांस लेने से बढ़ जाता है। खांसी मुख्य रूप से सूखी, कठोर होती है। कुछ खाने और पीने के बाद ज्यादातर खराब हो जाता है। कभी-कभी उल्टी वाली खांसी के साथ होती है। कुछ मामलों में ईंट / जंग के रंग का थूक खांसी के साथ निकला जाता है। खांसी के अलावा यह संयुक्त दर्द और सूजन को ठीक करने में भी मदद करता है। ऐसे लक्षण में Bryonia alba 30 की 2 बून्द दिन में 3 बार जीभ पर लेना है।

Arsenic album 30 – खांसी और साँस लेने में कठिनाई को ठीक करने के लिए

यह साँस लेने में कठिनाई के साथ खांसी को ठीक करने के लिए एक महत्वपूर्ण दवा है। इस दवा का उपयोग तब करें जब खांसी कम और सूखी हो। इसमें सांस की तकलीफ रात के समय ज्यादा हो जाती है। इसके साथ ही छाती से घड़घड़ाहट प्रमुख रूप से मौजूद रहती है। संकुचन या छाती की जकड़न का सनसनी भी रहती है। खांसते समय छाती में दर्द भी महसूस किया जा सकता है। एक महत्वपूर्ण लक्षण जो ऊपर के साथ होता है वो है चिंता और बेचैनी। रोगी को प्यास बहुत लगती है और वह थोड़ा-थोड़ा पानी पीता है। ऐसे लक्षण में Arsenic album 30 की 2 बून्द सुबह और शाम देना है।

Spongia 30 – सूखी खांसी को ठीक करने के लिए

सूखी खांसी के लक्षण में स्पोंजिया भी एक बेहतरीन औषधि है। जिन व्यक्तियों को इसकी आवश्यकता होती है, उनमें सूखी, खुरदरी, छोटी और जलन वाली खांसी होती है। वे सभी वायु मार्गों में अत्यधिक सूखापन महसूस करते हैं। खांसी ज्यादातर रात के समय में खराब हो जाती है। गर्म पेय लेने से यह बेहतर हो जाता है। खांसी के साथ-साथ साँस लेने में कठिनाई होती है। एक अन्य उपस्थित लक्षण है छाती में जलन। कभी-कभी उन्हें छाती में सीटी बजने और खांसने पर सीने में दर्द की शिकायत भी होती है।

Drosera 30 – इस दवा को ड्रोसेरा रोटनडिफोलिया नामक पौधे से तैयार किया जाता है, जिसे आमतौर पर राउंड लीक्ड सूंड के रूप में जाना जाता है। यह सूखी, गहरी, चिड़चिड़ी खांसी के लक्षण को ठीक करने के लिए एक बेहतरीन दवा है। जिन मामलों में इसकी आवश्यकता होती है उनमें खांसी के लगातार हमले होते हैं, एक के बाद एक लगातार खांसी। कुछ मामलों में खांसी के साथ उल्टी होती है। बात करने से और रात में लेटते समय खांसी हो सकती है। कभी-कभी साँस लेने में कठिनाई भी उपरोक्त लक्षणों के साथ मौजूद होती है।

kali Phos 6x – काली फॉस इन मामलों में कमजोरी को दूर करने के लिए एक और अच्छी तरह से संकेतित दवा है। इसकी आवश्यकता वाले व्यक्ति कमजोर और थके हुए महसूस करते हैं। वे मामूली कारणों से थकान महसूस करते हैं। कमजोरी मानसिक और शारीरिक दोनों क्षेत्रों पर मौजूद है। यह दवा इन मामलों में ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा देने में मदद करती है। ऐसे लक्षण पे इसका सेवन करना है।

Rhus Tox 30 – सूजन वाले दर्दनाक जोड़ों के लिए

सूजन और जोड़ों की शिकायतों के लिए Rhus Tox एक बहुत प्रभावी दवा है। जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए यह बहुत उपयोगी है। यह जोड़ों की सूजन को कम करने और जोड़ों की कठोरता से राहत देने में भी मदद करता है। अधिकांश लोगों को इसकी आवश्यकता होती है, जो आराम से संयुक्त शिकायतों के बिगड़ने की शिकायत करते हैं। वे गति से राहत महसूस करते हैं। वे गर्म अनुप्रयोगों से भी बेहतर महसूस करते हैं।

Belladonna 30 – आंखों की लालिमा और दर्द के लिए

यह दवा पौधे की घातक नाइटशेड ( Nightshade ) से तैयार की जाती है। यह पौधा फैमिली सोलेनेसी का है। यह आंखों में लालिमा और दर्द को ठीक करने के लिए एक अच्छी तरह से संकेतित दवा है। आंखें लाल होती हैं, इरिटेशन होती है, इसके साथ ही आंखों में दर्द होता है। इस दवा का उपयोग करने के लिए दर्द की प्रकृति दर्द, शूटिंग, जलन प्रकार की हो सकती है। यह ज्यादातर तेज प्रकाश से खराब हो जाता है। उपरोक्त लक्षणों के साथ आंखों में सूखापन भी होता है अर्थात ड्राई आई। ऐसा लगता है मानो आँखों में रेत भी है। ऐसे लक्षण में Belladonna 30 इस्तेमाल करें।

Euphrasia 30 – खुजली के लिए, आंखों में जलन

यह पौधे यूफ्रासिया ऑफिसिनैलिस से तैयार किया जाता है, जिसे आमतौर पर आई – ब्राइट नाम से भी जाना जाता है। खुजली और आंखों की जलन के मामलों में यह अच्छी तरह से काम करता है। जिन व्यक्तियों को इसकी आवश्यकता है, उनकी आंखों में भी दर्द हो सकता है। आमतौर पर आंख में जलन, कटिंग, काटने का दर्द होता है। आंखों का दर्द ज्यादातर रात के समय में बढ़ जाता है। इससे आंखें लाल होती हैं। आँखों में धूल या रेत का अहसास ऊपर से होता है।

Apis Mel 30 – यह त्वचा के दाने को ठीक करने के लिए एक प्रमुख दवा है। अधिकांश व्यक्तियों को दाने में जलन, चुभने वाले दर्द की शिकायत होती है। उन्हें दाने में भी खुजली होती है। हो सकता है कि गर्मी से वे खराब हो गए हों। त्वचा की लाली छूने के लिए संवेदनशील हो सकती है। ऐसे में Apis Mel 30 लें।

Graphites 30 – यह सूखी, खुरदरी त्वचा की लाली के लक्षण के लिए दिया जाता है। यह खुजली के साथ हो सकता है जो रात के समय खराब हो जाता है। इसके अलावा यह त्वचा के नीचे पिंड के लिए भी संकेत दिया गया है। स्किन रोग में चिपचिपा पानी जैसा आये तो Graphites दें।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?