Natural Remedies to Treat Malaria – मलेरिया का घरेलु इलाज़

288

कारण – आयुर्वेद में मलेरिया को विषम ज्वर कहते हैं। यह मच्छरों से फैलता है। वैसे यदि व्यक्ति को साधारण बुखार आता हो और वह ख़राब भोजन कर ले तो पेट में अग्नि बढ़ जाती है और मलेरिया हो जाता है। यह रोग किसी भी मौसम में हो जाता है परन्तु वर्षा ऋतु में अधिक होता है क्योंकि उन दिनों पाचन क्रिया मंद पड़ जाती है।

लक्षण – इस बीमारी में वायु बढ़ जाती है। अतः सदैव बुखार ठण्ड लगकर आता रहता है तथा कँपकँपी लगती है। रोगी को गरम कपडे पहनने तथा लिहाफ ओढ़ने पर आराम मिलता है। शरीर में दर्द, बेचैनी घबराहट, भोजन में अरुचि, भूख का सूखना तथा आँखों में लाली का आ जाना आदि इस रोग के सामान्य लक्षण हैं। यह रोग पसीना आने के बाद उतरता है।

चिकित्सा – (1) शहद में तुलसी की पत्तियों को पीसकर मिला लें। फिर इसको सुबह शाम चाटें।

(2) – नीम की दो तीन कोपलें पीसकर शहद के साथ सेवन करें।

खान पान का ध्यान – मलेरिया के रोगी को दूध, चाय, पतले पदार्थ ही खाने चाहिए। फल में चीकू, पपीता, अंजीर, सेब, आलूबुखारा आदि का सेवन करना चाहिए। मुनक्का तथा किशमिश को तवे पर हल्के गरम करके सेंधानमक के साथ खाना चाहिये।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें