रियुम ( Rheum ) के लाभ, उपयोग, लक्षण, साइड इफेक्ट और खुराक

0 67

Rheum होम्योपैथिक दवा के लक्षण और उपयोग

सामान्य नाम : Rheum officinale, R. palatum, Rheum rhabarbarum, Rhubarb

  • Rheum दस्त में उपयोगी है। मल से पहले पेशाब करने की इच्छा होती है, परन्तु पेशाब आता नहीं, मल निकल जाता है। मल में खट्टी गंध आती है, गुदा में तेज जलन महसूस होती है।
  • यह दांतों आने के दौरान होने वाले खट्टे दस्त के लिए भी उपयोगी है।
  • मल को निकलने की अप्रभावी इच्छा के साथ पेट का दर्द होता है।
  • Rheum सांस लेने में कठिनाई को ठीक करता है।
  • बेचैनी और चिड़चिड़ेपन वाले बच्चों के दांत निकलने में दिक्कत होती है और पूरे बच्चे में खट्टी गंध आती है।

सिर सम्बंधित लक्षण

  • सिर में स्पंदन जैसे दर्द में Rheum से आराम मिलता है।
  • थोड़े से प्रयास के बाद माथे और खोपड़ी पर पसीना आना।

कान सम्बंधित लक्षण

  • कान में खुजली के साथ ओटेल्जिया में Rheum उपयोगी होता है।
  • ओटेल्जिया कान के फड़कने और मेनिएर रोग में भी उपयोगी है।

दांत सम्बंधित लक्षण

  • Rheum दांतों में दर्द से राहत देता है जो कि हिंसक होते हैं।
  • दांतों में ठंडक की अनुभूति (ज्यादा लार जमा होने के साथ) में राहत देता है।
  • बच्चों के दांत निकलते समस्या होने वाली समस्या में Rheum लाभदायक है।

पेट सम्बंधित लक्षण

  • उदरशूल के साथ उबकाई आती है, मानो पेट से निकल रही हो।
  • पेट में भरापन, दबाव के साथ, मानो पेट में कुछ भारी रखा हुआ हो।
  • यह पेट के गड्ढे में शूटिंग पेन और धड़कन से राहत देता है।
  • Rheum पेट में कटिंग पेन से राहत देता है, जो शरीर को मोड़ने के लिए मजबूर करता है, अक्सर भोजन के तुरंत बाद दर्द बढ़ जाता है।
  • पेट का दर्द मल से पहले और मल के दौरान होता है, मल त्यागने से बेहतर महसूस होता है, बच्चों के बहुत खट्टा मल के साथ पेट दर्द में उपयोगी दवा है।

मल और गुदा के लक्षण

  • आम तौर पर मल से खट्टी गंध आती है, मल पतला पानी जैसा होता है, पेट में कसने की अनुभूति होती है।
  • भूरे रंग का दस्त, बलगम के साथ मिश्रित, गुदा में क्रैम्प आना, पीठ में दर्द और गुदा और मलाशय में बहुत जलन।
  • अत्यधिक अतिसार, उल्टी के बाद बहुत कमजोरी में Rheum से लाभ होता है।

महिला यौन अंग के लक्षण

  • खड़े होने पर गर्भाशय क्षेत्र में नीचे की ओर असर करना।
  • Rheum बायें ओवेरियन क्षेत्र में जलन को दूर करने में उपयोगी होता है।
  • गर्भपात के बाद मूत्र संबंधी शिकायतों में Rheum दिया जाता है।
  • माता का दूध पीला, कड़वा Rheum का लक्षण है।
  • यह स्तन में चुभन जैसे दर्द से राहत दिलाता है।

श्वसन अंग के लक्षण

  • खांसी: शाम को सूखी, बलगम के निकलने के साथ।
  • Rheum द्वारा नींद के दौरान खर्राटों आने की समस्या में उपयोगी है।

पीठ सम्बंधित लक्षण

  • Rheum हिंसक काटने की तरह पीठ दर्द में उपयोगी होता है।
  • पीठ में तनाव महसूस होना।
  • कमर और कूल्हों में कठोरता, जो सीधे खड़े होने में परेशानी देती है।

ऊपरी अंग के लक्षण

  • Rheum बाहों, फोरआर्म्स और उंगलियों के जोड़ों में जकड़न से राहत देता है।
  • Rheum से हाथ मरोड़ने से आराम मिलता है।
  • कोहनी के जोड़ों में मांसपेशियों की धड़कन में राहत देता है।
  • नसें (हाथों पर) सूज जाती हैं, और हाथ गर्म हो जाते हैं।

निचले अंग के लक्षण

  • जाँघों में अत्यधिक शिथिलता होती है।
  • Rheum घुटनों और टांगों में शूटिंग पेन में उपयोगी होता है।
  • घुटने के मोड़ से एड़ी तक बुदबुदाहट महसूस होना।
  • चलने पर दर्द के साथ घुटनों के मोड़ का अकड़न इससे दूर होता है।

Generalities of rheum officinale

  • मल से पहले या उसके दौरान नाभि में दर्द होता है, मल से पहले खिंचाव होता है, जो मल त्यागने के बाद आराम हो जाता है, शिशु जो रात में पेट दर्द से बहुत रोते हैं, दिन में ठीक रहते हैं उनके लिए उपयोगी है।
  • शरीर के बाईं ओर इसका प्रभाव अधिक है।
  • शरीर के ऊपरी भाग पर पसीना आना।
  • Rheum जोड़ों के दर्द से राहत देता है।
  • Rheum मांसपेशियों, विशेषकर जोड़ों में होने वाले स्पंदन में उपयोगी है।
  • अंगों के सुन्नपन में उपयोगी है।
  • गहरी नींद से जागने के बाद बहुत आलस और पूरे शरीर में भारीपन में उपयोगी है।

Rheum के दुष्प्रभाव

इस दवा का कोई साइड इफेक्ट नहीं हैं। लेकिन हर दवा दिए गए नियमों का पालन करते हुए लेनी चाहिए। यह दवा लेना सुरक्षित है, भले ही आप दवा के अन्य तरीके जैसे एलोपैथी दवाएं, आयुर्वेदिक आदि पर हों। होम्योपैथिक दवाएं कभी भी अन्य दवाओं की क्रिया में हस्तक्षेप नहीं करती हैं।

Rheum का खुराक और नियम

Rheum 30 ch की 2 बून्द दिन में 3 बार लेना है। आप ग्लोब्यूल्स में भी दवा को ले सकते हैं या चिकित्सक द्वारा बताए अनुसार ले सकते हैं। हम आपको चिकित्सकों के मार्गदर्शन में लेने की सलाह देते हैं।

Rheum लेते समय सावधानियां

  • दवा लेते समय भोजन से पहले या बाद में हमेशा 15 मिनट का अंतर रखें।
  • यदि गर्भवती हैं या स्तनपान महिला हैं, तो उपयोग करने से पहले किसी होम्योपैथिक चिकित्सक से पूछें।
  • दवा के दौरान तंबाकू खाने या शराब पीने से बचें।

नियम और शर्तें

हमने यह मान लिया है कि आपने इस दवा को खरीदने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श किया है और आप स्वयं दवा नहीं ले रहे हैं। होम्योपैथिक दवाओं के कई उपयोग हैं और लक्षण समानता के आधार पर निर्धारित की जाती हैं।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें