home remedies for ascites in hindi

417

इस रोग में व्यक्ति के पेट में पानी भर जाता है। इस कारण पेट फूल जाता है। रोगी हर समय दुःखी रहता है।

इलाज़ – (1) त्रिफला दो सौ ग्राम, कुटकी दो सौ ग्राम, छोटी हरड़ सौ ग्राम – तीनो को कूट पीस कर छान लें। लगभग पन्द्रह दिन तक इस औषधि का सेवन करने से जलोदर मिट जायेगा।

भोजन में केवल दूध लें। दूध पूर्ण भोजन है। पानी तथा खाद्यान्न बहुत कम मात्रा में लें। इससे धीरे धीरे पेट की सूजन भाग जाएगी।

(2) बाजार से जलोदरादि रस ले लें। या फिर यह रस घर पर बना लें। क्रिया इस प्रकार है – शुद्ध जमालगोटा, त्रिफला, सोंठ, कालीमिर्च, गंधक, पारा, पीपल चित्रकमूल की छाल – पप्रत्येक का चूर्ण दस दस ग्राम ले लें। पारा और गन्धक की कज्जली कर लें । इसके बाद अन्य दवाओं को कूट पीसकर कपड़छन कर लें। इसमें दन्तीमुल, सेंहुड़ और भांगरे के रस की सात सात भावनायें दें। रोज दो चुटकी चूर्ण धृतकुमारी रस के साथ लें। शीघ्र ही लाभ होगा।

यह रस जलोदर के पानी को धीरे धीरे बाहर निकलेगा। इसके साथ ही पेट में पानी बनने भी नहीं देगा।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Open chat
पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें