हुकवर्म इन्फेक्शन का होम्योपैथिक इलाज | Homeopathic Medicine For Hookworm Infection In Hindi

0 139

हुकवर्म संक्रमण आंतों में एक तरह के परजीवी द्वारा होता है जिसे हुकवर्म कहते हैं।विभिन्न हुकवर्मों में मुख्य हुकवर्म जोकि संक्रमण का कारण बन सकते हैं वह है अंकुश कृमि और नेक्टर अमेरिकी। हुकवर्म संक्रमण के लिए होम्योपैथिक दवाएं लाल त्वचा, चकत्ते पड़ना, खुजली, दस्त, पेट में दर्द, शूल / ऐंठन, थकान महसूस होना, वजन घटाना जैसे लक्षणों से राहत प्रदान करने में मदद करती हैं।

यह संक्रमण तब फैलता है जब इस संक्रमण वाला व्यक्ति मिट्टी में शौच करता है या उर्वरक उद्देश्यों के लिए मिट्टी में ऐसे मल का उपयोग करता है। इस तरह के मल में अंडे 1 या 2 दिन में आ जाते हैं। मिट्टी में लार्वा के जीवित रहने का समय लगभग 3 से 4 सप्ताह है। एक स्वस्थ व्यक्ति को यह संक्रमण तब होता है जब उसकी त्वचा इस कीड़े के लार्वा युक्त मिट्टी के संपर्क में आती है। लार्वा शरीर में त्वचा के संपर्क के माध्यम से मिलता है। यह आमतौर पर तब होता है जब कोई व्यक्ति इस कीड़े के लार्वा से दूषित मिट्टी पर नंगे पैर चलता है। इसके अलावा अन्य दूषित भोजन (जैसे फल या कच्ची बिना पकी हुई सब्जियां) खाने या दूषित पानी पीने से भी यह संक्रमण हो जाती है।

मानव शरीर में यह लार्वा रक्तप्रवाह में चला जाता है और वहां से फेफड़ों तक भी आ जाया करता है। बाद में व्यक्ति को खांसी हो सकता है वह बलगम को निगलता है जहां से वे छोटी आंत तक पहुंचते हैं। कीड़े 2 साल तक छोटी आंत में रह सकते हैं। जो लोग ऐसी जगहों पर रहते हैं, जहां स्वच्छता की सुविधा नहीं है या मानव मल का उपयोग ज्यादा किया जाता है, उन्हें यह संक्रमण होने का खतरा अधिक होता है। वे लोग जो उन क्षेत्रों में रहते हैं, जहाँ की जलवायु गर्म है, वहाँ भी इस संक्रमण का खतरा है।

हुकवर्म संक्रमण के लक्षण

इस संक्रमण के लक्षण उन्हें नहीं हो सकते हैं, जो व्यक्ति स्वस्थ है और जिनकी मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली है। ऐसे मामलों में जहां लक्षण उत्पन्न होते हैं वह शुरू में त्वचा क्षेत्र पर स्थित एलर्जी से खुजली और त्वचा पर दाने होते हैं, जहां से लार्वा त्वचा में प्रवेश करता है। जब हुकवर्म आंत में प्रवेश करता है और बढ़ता है तो दस्त (ढीला मल), पेट में दर्द, पेट का दर्द / ऐंठन, भूख न लगना, मितली, मल में खून, थकान महसूस होना, वजन कम होना और बुखार दिखाई देता है। दीर्घकालिक मामलों में एनीमिया हो सकता है। हुकवर्म मानव रक्त से पोषक तत्व प्राप्त करता है। आहार सही न होने पर तीव्र रक्ताल्पता की संभावना होती है। यह उन महिलाओं में भी गंभीर हो सकता है जो गर्भवती हैं या यदि किसी व्यक्ति को मलेरिया हो। जब लाल रक्त कोशिका की संख्या बहुत कम हो जाती है तो इससे हृदय गति रुक ​​सकती है। इसकी अगली जटिलताओं में पोषण संबंधी कमियां, जलोदर (पेट में तरल पदार्थ का निर्माण) और धीमी गति से शारीरिक विकास और मानसिक विकास (बच्चों में) शामिल हैं।

हुकवर्म संक्रमण के लिए होम्योपैथिक दवाएं

हुकवर्म संक्रमण के हल्के से मध्यम मामलों में होम्योपैथिक दवाओं की सिफारिश की जाती है। होमियोपैथी प्राकृतिक मूल के हैं जो इन मामलों में बहुत सुरक्षित और प्रभावी हैं। ये कृमि संक्रमण से लड़ने और इससे छुटकारा पाने के लिए शरीर के रक्षा तंत्र को बढ़ावा देते हैं। लेकिन ऐसे मामलों में जहां लक्षण गंभीर होते हैं, और जलोदर मौजूद होते हैं, कुपोषण काफी हद तक पहुँच जाती है, एनीमिया बहुत बढ़ जाती है या दिल की विफलता के संकेत आने लगते हैं, तो उपचार के पारंपरिक प्रणाली से तत्काल मदद लेना अत्यधिक उचित है।

Cina 30 – यह एक प्राकृतिक औषधि है जिसे सीना मैरिटिमा से तैयार किया जाता है जिसे आर्टेमिसिया मेरिटिमा के नाम से भी जाना जाता है। यह कीड़े के मामलों के लिए एक बहुत प्रभावी दवा है। पेट में दर्द होने पर इसका उपयोग मुख्य रूप से किया जाता है। दर्द काटने या चुटकी प्रकार का हो सकता है। कुछ मामलों में इसे नाभि में घुमाव प्रकार का दर्द के रूप में महसूस किया जाता है। कभी-कभी पेट फूल भी सकता है। इसके साथ ही दस्त होता है। ऐसे मामलों में मल ढीला होता है, सफेद बलगम के साथ जैसा। कभी-कभी मल खून से सना होता है। बच्चा दांत किटकिटाता है, नाक नोचता है। यह दवा शरीर के प्रकृति को ही बदल देता है जिसमे कीड़े पनप ही नहीं पाते।

Calcarea carb 30 – यह दवा उन मामलों के लिए बहुत फायदेमंद है जहां दस्त और पेट की गड़बड़ी को चिह्नित किया गया है। इसका उपयोग तब करें जान मल पानीदार, पतला होता है, जिससे बहुत तेज गंध या खट्टी बदबू आती है। इसमें अनपचे खाद्य कण हो सकते हैं। कभी-कभी खून की लकीर भी हो सकती है। यह पेट में दर्द होने पर भी उपयोगी है। मल ज्यादातर खाने के बाद होता है। कुछ मामलों में मल अनैच्छिक रूप से भी हो सकता है। पेट फूल जाना और कड़ा पड़ जाना भी देखा जाता है। इसके साथ पेट के निचले हिस्से में दबाव या दर्द की अनुभूति होती है। मतली इसके साथ होती है।

Spigelia 30 – यह स्पीगेलिए एंटीलिया पौधे की सूखी जड़ी बूटी से तैयार किया जाता है जिसे आमतौर पर गुलाबी – जड़ के रूप में जाना जाता है। यह पौधा परिवार लोगानियासी के अंतर्गत आता है। पेट के नाभि क्षेत्र में दर्द को ठीक करने के लिए यह दवा बहुत सहायक है। पेट के दर्द ज्यादातर काटने, जकड़ने या चुटकी के प्रकार के होते हैं उसमे यह लाभ करता है। अगला लक्षण जो प्रकट होता है वह मल का लगातार लगना और मल पानी जैसा होता है।

Carbon Tetrachloride 30 – यह होम्योपैथिक दवा हुकवर्म के मामलों में बहुत प्रभावी पर दुर्लभ है और आसानी से नहीं मिलता। यह कीड़े और परजीवी संक्रमण के लिए एक बेहतरीन दवा है। यह उन देशों में हुकवर्म के लिए एक सर्वोत्तम वर्मीफ्यूज (एक दवा जो आंतों के मार्ग से कीड़े को बाहर निकालने में मदद करता है) के रूप में साबित हुई है, जहां यह रोग बहुत अधिक होती है। यह होम्योपैथिक लेखन के अनुसार शरीर में मौजूद 95% हुक वर्म को हटाने में प्रभावी रहता है।

Sabadilla 30 – यह दवा पौधे के बीज से तैयार की जाती है, जिसका नाम सबाडिला ऑफिसिनैलिस है, जिसका सामान्य नाम cevadilla है। पेट में दर्द के लिए यह दवा उपयोगी है। इसके साथ ही पूरे पेट में मरोड़, चक्कर होती है। अचानक से तेज शौच की हाजत होने पर भी यह दवा उपयोगी है।यह उन मामलों में भी मदद करता है जहां पेट में तीखी प्रकार का दर्द मौजूद होता है। इसके साथ मल के साथ दस्त होता है जो रक्त के साथ मिश्रित हो सकता है। पेट का फूलना भी है। अंत में यह नाभि के क्षेत्र में जलन या उबाऊ प्रकार के दर्द के लिए उपयोगी है। हुकवर्म संक्रमण में ऐसे लक्षण में आपको Sabadilla 30 का सेवन करना है।

Natrum Mur 30 – शरीर के वजन और कमजोरी में सुधार लाने के लिए यह दवा प्रमुख है। अच्छी तरह से खाने और अच्छी भूख होने के बावजूद इसकी आवश्यकता वाले व्यक्तियों का वजन कम होता है। साथ में बहुत कमजोरी और थकावट भी रहती है।उन्हें पेट का दर्द हो सकता है और मतली भी हो सकती है। कभी-कभी वे पेट में काटने की शिकायत करते हैं। इसके अतिरिक्त लगातार, पानीदार, कम मात्रा में मल हो सकता है। यह खूनी भी हो सकता है। एनीमिया उन मामलों में मौजूद हो सकता है जिन्हें इस दवा की आवश्यकता होती है।

Silicea 30 – यह कीड़े की वजह से पेट दर्द को दूर करने वाली दवा है। जिन्हे इसकी आवश्यकता होती है, उनमें नाभि क्षेत्र में एक प्रकार का दर्द होता है। दर्द गर्म अनुप्रयोगों से बेहतर हो सकता है। कुछ मामलों में भोजन के बाद पेट में दर्द महसूस होता है। उदर कठिन, कड़ा और कभी-कभी छूने पर दर्द के साथ उपस्थित हो सकता है। इसके साथ खूनी मल कुछ ही मामलों में मौजूद होता है।

China 30 – इस दवा को सिनकोना ऑफिसिनैलिस के सूखे छाल से तैयार किया जाता है, जिसे पेरुवियन छाल भी कहा जाता है। यह पौधा परिवार रूबिएसी का है। यह दस्त और कमजोरी को ठीक करने के लिए अत्यधिक मूल्यवान दवा है। जब मल ढीला, प्रचुर और होता ही रहता है तब यह दवा दिया जाता है। इसके साथ अत्यधिक गैस निकलती है। मल में बदबू रहती है। इसके साथ अत्यधिक कमजोरी होती है। भूख न लगना भी है। उपरोक्त लक्षणों के साथ वजन में कमी और एनीमिया भी मौजूद हो सकता है।

Sulphur 30 – यह उन मामलों के लिए दिया जाता है जहां त्वचा पर दाने और खुजली मौजूद हैं। जहां आवश्यकता होती है वहां की त्वचा शुष्क और पपड़ीदार होती है। ज्यादातर मामलों में इसकी आवश्यकता त्वचा की खुजली, गर्मी और शाम के समय से खराब हो जाती है। प्रभावित त्वचा की सतह पर खरोंच जलन महसूस की जा सकती है। ऐसे मामलों में Sulphur उपयोगी होता है।

Calcarea Phos 30 – यह दवा वहां दी जाती है जब पेट में तेज दर्द के बाद दस्त होता है। पेट का दर्द आमतौर पर खाने के बाद महसूस होता है। पेट दर्द गैस पास करने और मल पास से बेहतर हो जाता है। मल ढीला, हरा होता है और इसमें कई बार सफेदी भी रहती है। इस दवा के जरूरत वाले व्यक्ति पतले, कमजोर और एनीमिक हो सकते हैं।

 

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Open chat
1
💬 Need help?
Hello 👋
Can we help you?