बच्चेदानी ( गर्भाशय ) बाहर निकलने का होम्योपैथिक उपचार और दवा – Homeopathic remedies for uterine prolapse in hindi

0 330

गर्भाशय का आगे को बढ़ाव तब होता है जब pelvic की मांसपेशियों और स्नायुबंधन कमजोर हो जाते हैं। गर्भाशय फिर योनि से बाहर खिसक जाता है या बाहर निकल जाता है।

गर्भाशय आगे को बढ़ाव किसी भी उम्र की महिलाओं को हो सकता है, लेकिन यह अक्सर पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं को प्रभावित करता है जिनकी एक या एक से अधिक योनि प्रसव हुई हो। पैल्विक मांसपेशियों का कमजोर होना जोकि गर्भाशय के आगे बढ़ने की वजह से हो सकता है: – गर्भावस्था और प्रसव के दौरान सहायक ऊतकों को नुकसान, एस्ट्रोजन की हानि, बार-बार तनाव जैसी समस्या हो सकती है।

लक्षण – गर्भाशय का आगे को बढ़ाव का गंभीर मामले हो सकते हैं। जब हल्के गर्भाशय आगे को बढ़ते हैं तो कोई संकेत या लक्षण अनुभव नहीं कर सकते हैं। यदि मध्यम से गंभीर गर्भाशय आगे को बढ़ाव है, तो आप अनुभव कर सकते हैं: आपकी pelvic में भारीपन या खिंचाव की अनुभूति, आपकी योनि से ऊतक का निकलना, मूत्र संबंधी समस्याएं, जैसे मूत्र का रिसाव या मूत्र का रुकना, मल त्याग करने में परेशानी, पीठ के निचले हिस्से में दर्द महसूस करना जैसे कि आप एक छोटी सी गेंद पर बैठे हों या जैसे कि आपकी योनि से कुछ गिर रहा हो, यौन सम्बन्धी जैसे कि आपकी योनि के ऊतकों में ढीलापन की अनुभूति, ऐसे लक्षण दिख सकते हैं।

बच्चेदानी ( गर्भाशय ) बाहर निकलने का होम्योपैथिक उपचार

SEPIA 1M – यह गर्भाशय के आगे बढ़ने का प्रमुख दवा है । रोगिणी को ऐसा लगता है कि उसका गर्भाशय बाहर निकल पड़ेगा तो वह योनि को अपने हाथों से दबाये रखती है। ऐसे लक्षण पर SEPIA 1M की 2 बून्द 15 दिन में 1 बार लें।

LILIUM TIG 30 – सिपिया के असफल होने पर यह दवा दी जानी चाहिए। योनि में दबाव महसूस होता है। हाथों के दबाने से बेहतर, नाभि से खींचना। नर्वस और चिड़चिड़ापन। लगातार मूत्र प्रवाह। गर्भाशय के आगे बढ़ने के कारण मूत्र बार-बार करने की इच्छा में लाभदायक है।

PODOPHYLLUM 30 – बच्चे के जन्म के बाद तनाव या अतिरंजना पर दें । मल के दौरान जननांग बाहर आने पर सनसनी होना और गंभीर पीठदर्द में उपयोगी है।

FRAXINOUS AMERICANA Q – यह गर्भाशय टॉनिक है। गर्भाशय बड़ा, भारी और लम्बा होता है। गर्भाशय फाइब्रॉइड में भी उपयोगी दवा है।

BELLADONNA 30 – पेल्विस की सामग्री का बाहर आने जैसा महसूस होना, दबाने से आराम मिलना । खड़े रहने पर बेहतर महसूस करना।

MUREX 30 – पैरों को क्रॉस करने से दर्द में राहत मिलती है।

HELONIAS 30 – भारी गर्भाशय के कारण भ्रंश। प्रोलैप्स के साथ त्रिक क्षेत्र में खिंचाव, विशेष रूप से गर्भपात के बाद।

TILIA EUROPEA 6 – ऐसा महसूस होना कि कमर से नीचे की ओर खींच रहा है। मलाशय और गर्भाशय पर दबाव के साथ जैसे सब कुछ दबाया जा रहा हो। ल्यूकोरिया, प्रसव के बाद गर्भाशय का आगे बढ़ना। गर्भाशय के आसपास तीव्र दर्द महसूस होना।

ARGENTUM MET 30 – बेअरिंग दर्द को कम करता है। लेफ्ट ओवरी और पीठ के छोटे हिस्से में दर्द होता है।

ARNICA MONTANA 30 – प्रसार के कारण प्रोलैप्स। प्रोलैप्स के कारण नहीं चल सकता, दर्द होने लगता है।

AURUM MET 30 – भारी वजन उठाने के बाद प्रोलैप्स। मासिक धर्म के समय स्थिति और खराब होना।

ASTERIAS RUBENS 6 – गर्भ में ट्विचिंग के साथ सनसनी होना।

AGARICUS MUS 30 – भयानक रूप से वेदनाएँ जो लगभग असहनीय होती हैं, उसमे यह दवा दें।

LACHESIS 30 – रजोनिवृत्ति के दौरान गर्भाशय का प्रसार होना।

KALI CARB 30 – प्रसव के बाद गर्भाशय का आगे बढ़ना।

NATRUM HYPOCHLORO 30 – पेल्विक का बाहर आना, गर्भाशय में पानी भरना।

NATRUM MUR. 200 – मूत्रमार्ग में कटाव के साथ गर्भाशय का बाहर निकलना। सुबह के समय दर्द कम होना परन्तु जैसे जैसे दिन ढलता है परेशानी बढ़ती है।

PULSATILLA NIG. 30 – दर्द के साथ संवेदना कम होना, लेट जाने पर आराम मिलना, रोगी खुली हवा चाहता है, प्यास नहीं रहती।

STANNUM MET 30 – मल के बाद गर्भाशय का आगे बढ़ना। पेट में कमजोरी, डूबने वाली भावना के साथ आगे बढ़ना

SABINA 30 – पीठ के निचले हिस्से से, पेट के नीचे और जांघों के आस-पास से नीचे की ओर झुकना।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.