Laryngitis Treatment In Homeopathy

304

गले में जो स्वरयंत्र होता है, उसमें या उसके निकटस्थ श्लैष्मिक आवरण में प्रदाह उत्पन्न हो जाने को ही स्वर-यंत्र-प्रदाह कहा जाता है । यह रोग फ्लू, चेचक आदि कारणों से हो जाता है ।

एकोनाइट 30, 3x – रोग की प्रथमावस्था में रोगी को सर्वप्रथम यही दवा देनी चाहिये ।

बेलाडोना 30 – एकोनाइट से लाभ न होने पर प्रयोग करनी चाहिये । गले में भयानक दर्द, निगलने में कष्ट होना, आक्रान्त स्थान लाल पड़ जाये, मुँह सूखा रहे तो लाभप्रद हैं ।

गुयेकम 6, 30 – स्वरयंत्र में जलन, बॉयी ओर कंठ की हड्डी तक दर्द, सूखी खाँसी- इन लक्षणों में दें ।

एण्टिम क्रूड 6, 30 – वक्ता और गायकों का रोग, स्वरयंत्र में अकड़न, गले में रोकने की-सी अनुभूति, रोगी बात न कर पाये तो देनी चाहिये ।

फॉस्फोरस 30, 200 – बात करते समय खाँसी उठे, गले की नली में संकोचन का अनुभव हो, सर्दी भी लगे तो लाभप्रद है ।

कॉस्टिकम 6, 30 -गला रुंध जाये, जुकाम, स्वरलोप, खाँसी, आक्रान्त स्थान में दर्द आदि लक्षणों में लाभप्रद हैं ।

नैजा 30– स्वरयंत्र में तेज खिंचाव वाला दर्द, गले में दर्द, खाँसी आने पर दर्द बढ़ जाये तो लाभप्रद है ।

नक्सवोमिका 30 – स्वरयंत्र में जलन, खाँसी, सर्दी से बुखार, सिर-दर्द आदि में उपयोगी हैं ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.