पेट में गैस, हवा, अफारा बनने की समस्या को ठीक करने की होम्योपैथिक दवा

0 126

इस लेख में हम पेट में गैस, हवा, अफारा बनने की समस्या को ठीक करने की बेस्ट होम्योपैथिक दवा के बारे में जानेंगे।

पेट के अफारे या पेट में हवा बनने के संबंध में तीन दवाइयां मुख्य हैं – carbo veg, lycopodium और china। यह गैस की औषधियों का ‘त्रिक’ है। इन तीनो दवाओं का अपना-अपना लक्षण है। Carbo veg में पेट के ऊपर के हिस्से में हवा भर जाती है, नाभि से उपर वाला भाग भरा रहता है, रोगी ऊपर से डकारा करता है। डकारने से उसे आराम मिलता है। Lycopodium में पेट का निचला हिस्सा वायु से भरा रहता है, नाभि से नीचे वाला, आतों में भोजन पड़ा-पड़ा सड़ा करता है, हर समय गुड़-गुड़ होती है, नीचे के पेट में हवा फिरती रहती है। lycopodium का रोगी कहता है कि मैं जो कुछ खाता हूँ सब हवा बन जाता प्रतीत होता है। हवा की गुड़गुड़ाहट विशेष तौर पर बड़ी आंत के उस हिस्से में पायी जाती है जो तिल्ली की तरफ है, अर्थात् पेट के बायीं तरफ। हवा उठती तो दायीं से ही है, परन्तु निकल न सकने के कारण बायीं तरफ अटक जाती है। ऐसे लक्षण में lycopodium देना है। China की हवा सारे पेट में भरी रहती है, रोगी यह नहीं कहता कि हवा ऊपर है या नीचे, वह कहता है कि सारा पेट हवा से भरा पड़ा है। रोगी का पेट ढब हो जाता है, तम्बूरा बना रहता है, लगातार डकार आते हैं परन्तु आराम नहीं आता, पेट भरा-का-भरा महसूस होता है। जब पेट में वायु अटक जाय और ऐसा मालूम पड़े कि पेट में हवा अवरुद्ध है, पेट की मशीन ही रूठ गई है, तब china या कार्बो वेज देने से वायु को निकाल जाएगी ।

आप तीनो के लक्षण को समझ गए होंगे, अब प्र्शन है की किस पोटेंसी में और कैसे इस्तेमाल करें। जैसे अगर आपको लगता है कि आपका लक्षण carbo veg का है तो carbo veg 30 पोटेंसी की 2 बून्द दिन में 3 बार जीभ पर लेना है। वैसा ही जिसका लक्षण आपको लगता है आपको उसकी 30 पोटेंसी का इस्तेमाल करना है। lycopodium का लगे तो lycopodium 30 में लें अगर चाइना का लगे तो चाइना 30 लें। अब इन तीनो में से कोई भी लें साथ में आपको कैल्केरिया फॉस 30 का सेवन करना ही है। क्यों करना है ? क्योकि कैल्केरिया फॉस पेट में गैस भरने को रोकने के लिए सर्वोत्तम दवा है। इसलिए साथ में इसे भी लेना है।

एक कंडीशन ऐसा आता है जिसमे दवा लेने से 4-5 दिन आराम आता है फिर आराम आना बंद हो जाता है। ऐसे में सल्फर 30 की कुछ खुराक ले लेनी चाहिए। सल्फर प्रतिक्रिया शक्ति को बढ़ाता है। पुराने समय से ही सल्फर का इस्तेमाल स्किन समस्या के लिए होता आया है। शुरू से ऋषि मुनि शोधी गंधक इस्तेमाल करते आये हैं। जिस कारण हमारा शरीर गंधक के प्रति immune हो गया है। इसलिए उसे शक्तिकृत सल्फर दे कर इस इम्युनिटी को तोड़ने की आवश्यकता पड़ती है। कोई भी रोग क्यों न हो अगर कुछ दिन लाभ हो कर लाभ होना बंद कर दे तो सल्फर 30 की कुछ खुराक ले लेनी चाहिए। अगर सल्फर के बाद आराम मिले और फिर आराम आना बंद हो जाये तो chelidonium 30 का इस्तेमाल करना है। Chelidonium सल्फर का अनुपूरक दवा है और सल्फर के बाद chelidonium ज्यादा लाभ देता है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.