पुराने से पुराने कब्ज की होम्योपैथिक दवा और इलाज | Constipation Ki Homeopathic Medicine Aur Dawa In Hindi

0 228

चिकित्सक के लिए रोग असंभव नहीं बल्कि जरुरत है, कड़ी मेहनत, लगन, विश्वास के साथ चिकित्सा की जाए तो सिर्फ चमत्कार होगा।

कब्ज रोगों का जड़ है, कब्ज होने के बाद ही दुसरे रोगों के विकार दिखाई देते हैं। प्राकृतिक चिकित्सा में कब्ज को पूरी तरह नष्ट करने से दुसरे रोग खुद ही नष्ट हो जाते हैं। कब्ज हो जाने पर मल सरलता से नहीं निकलता और जमा हुआ मल आँतों में सड़ा करता है। इस रोग के होने पर ज्वर, सिरदर्द, भूख न लगना, गैस बनना और रोग के पुराना होने पर बवासीर भी हो जाता है।

कब्ज होने के बाद क्या-क्या समस्या पैदा होती है इसके बारे में हम सभी जानते हैं तो ज्यादा समय न लेते हुए इसको ठीक करने की होम्योपैथिक दवा के बारे में बात करेंगे। तो आइये समझते हैं :-

साधारण कब्ज में जिसमे कोई खास लक्षण न रहे बस शौच जाने की हाजत न हो, अगर हाजत हुआ भी तो थोड़ा मल निकलना, बार-बार हाजत हो जाना पर मल का खुल कर नहीं आना, तो ऐसे में सुबह Sulphur 30 की 2 बून्द जीभ पर और रात में Nux vomica 30 की 2 बून्द जीभ पर लेना है।

अब लक्षण पर खास ध्यान दीजियेगा :-

जब कब्ज की वजह से पेट अंदर को धंसता सा महसूस हो, पतले और कमजोर लोगों के कब्ज में में फायदा देगी – Hydrastis Q या Hydrastis 200 भी इसमें अच्छा लाभ देता है। अगर Hydrastis Q लें तो इसकी 20 बून्द आधे कप पानी में डाल कर दिन में 3 बार पियें, Hydrastis 200 की 2 बून्द हफ्ते में 1 बार सेवन करने से भी ऐसे लक्षण में बहुत लाभ मिलता है।

जब मल बहुत कड़ा, बकरी की मेंगनी की तरह का हो, अंदर मल जमा हो, ऐसा कब्ज आराम परस्त महिला को, गर्भावस्था के दौरान, शिशुओं में, वृद्धों में होता है तो ऐसे लक्षण पर लाभ करता है – Alumina 30, इसकी 2 बून्द दिन में 3 बार जीभ पर लेना है।

मल सूखा, कड़ा, गर्म जैसे भट्टी में पकाया हो, अंतड़ियों में स्राव की कमी और तेज प्यास रहे तो काम करेगा – Bryonia 30, इसकी 2 बून्द दिन में 3 बार जीभ पर लेना है।

लगातार कब्ज बना रहे, मल का मलाशय में भरे रहने के बावजूद मल त्याग की इच्छा न हो, पेट फूल जाना, गड़गड़ाहट की आवाज, पहले पाखाना कड़ा फिर पतला वेग से हो तो ऐसे में Lycopodium 200, 2 बून्द रोजाना जीभ पर लेना है।

दांत निकलने वाले बच्चों में जिनका मलाशय कमजोर हो, गतिहीन मल बाहर की ओर बढ़ता है, मगर फिर पीछे चला जाता है तो ऐसे में लाभ करेगा – Silicea 30

बच्चों में जोर का कब्ज जिसमे पाखाना हाथ से निकालना पड़े तो ऐसे में दें – Sepia 30, बच्चा है तो ड्रॉप दिन में 1 बार भी दे सकते, लाभ मिलेगा।

ऐंठन अर्थात पेट मरोड़ कर पाखाना लगे पर पाखाना होता नहीं, बहुत जोर लगाने पर, खड़ा हो कर मल त्यागने से थोड़ा पाखाना होना में हितकर है Causticum 30, ऐसे में 2 बून्द रोजाना सुबह और जीभ पर लेना है।

कई दिनों तक पाखाना की हाजत नहीं, चेहरे पर चकत्ता निकलना, नाजुक और उदास मिजाज के मोटे व्यक्तियों का ऐसा रोग जिसमे मल कड़ा, गाँठ-गाँठ करके कष्ट से निकले, मल निकलने के बाद मल के ऊपर आंव लगा हो, मलद्वार में जलन हो तो ऐसे में दें – Graphites 30, 2 बून्द रोजाना जीभ पर लेना है।

पाखाने की हाजत बिल्कुल न रहना, मल गोलियों के रूप में कठिनाई से निकले, मल का कड़ा होना, लेड़ी जैसा बदबू होना में लाभ देगा – Opium 30, 2 बून्द दिन में 2 बार लें।

मल बहुत सूखा, बड़े-बड़े लेड़ी जैसा जो सरलता से नहीं निकलते, अत्यधिक ताकत लगाने से निकले और जिसके कारण मलद्वार का फट कर रक्त निकलने लगे तो ऐसे में – Natrum Mur 30, 2 बून्द दिन में 2 बार लें।

मल त्याग करने की इच्छा बार-बार होती है, मगर हर बार मल थोड़ा-थोड़ा ही बाहर आता है, sedentary lifestyle और शराब पीने वाले व्यक्तियों के कब्ज, रात में देर तक जागने वालों की शौकीन व्यक्तिओं में ऐसे लक्षण आ जाते हैं जिसमे – Nux Vomica 30 लाभ देता है। इसको रात में सेवन करें, यह दवा रात में अधिक लाभ देता है।

यहाँ मैंने कब्ज में होने वाले मुख्य लक्षण और उसकी होम्योपैथिक दवा की चर्चा की है, लक्षण मिलने पर दवा के उपयोग से कब्ज की समस्या जड़मूल से समाप्त हो जाता है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...
Leave A Reply

Your email address will not be published.