अत्यधिक पसीना के लिए होम्योपैथिक उपचार [ Homeopathic Medicine For Excessive Sweating ( Hyperhidrosis ) In Hindi ]

5,839

अत्यधिक पसीना के लिए होम्योपैथिक उपचार

हर इंसान को पसीना आता है लेकिन कुछ लोग होते हैं जिन्हे अधिक पसीना आता है और इस समस्या को मेडिकल भाषा में Hyperhidrosis कहा जाता है। हमारे शरीर के तापमान को सामान्य रखने के लिए पसीने की ग्रंथि से पसीना निकलता है, सभी लोगों को पसीना निकलता है लेकिन कुछ को कम और कुछ को अधिक पसीना निकलता है। जिन्हे Hyperhidrosis होता है उन्हें हाथों की हथेलियों पर अधिक पसीना आता है, बाहर का वातावरण या शरीर गर्म हो या ठंडा सभी स्थितियों में हाथ गीले ही रहते है। इस बीमारी में हाथों की हथेली और पैरों के तलवे अधिकतर गीले रहते है, साथ ही Underarms में भी बहुत पसीना निकलता है। जिन्हे यह समस्या होती है वह मानसिक तौर पर बहुत परेशान रहते हैं।

इस लेख में हम Hyperhidrosis के एक केस की चर्चा करेंगे कि कैसे होम्योपैथिक दवा से बीमारी पूरी तरह से ठीक हुई।

एक 17 वर्षीय महिला को बचपन से ही दोनों हथेलियों और तलुवों में अत्यधिक पसीना आने की शिकायत थी, जो पिछले 3 साल से बढ़ गई थी। शिकायतें धीरे-धीरे शुरू हुईं और धीरे-धीरे बढ़ती चली गई। नए लोगों से मिलने और शाम के समय शिकायतें बढ़ जाती थी। उसने बताया कि उसे पिछले महीने बलगम वाली खांसी भी हुई थी जो ठंडा खाना खाने के बाद शुरू हुई थी। शाम के समय खांसी बढ़ जाती है।

  • शारीरिक बनावट देखें तो – महिला दुबली-पतली और गोरी थी।
  • भूख: अच्छी थी
  • प्यास: कम – 1 लीटर/दिन, गर्म पानी
  • मिठाई और चिकन खाने की विशेष इच्छा रहती है।
  • रोगिणी को ठण्ड में शिकायत बढ़ती है, ठंडी चीजों से भी परेशानी होती है, अर्थात रोगिणी शीत प्रकृति की है।

मानसिक लक्षण देखें तो :-

वह अभी 12 की पढाई कर रही है और stage पर जाने से बहुत डरती है। उसने बताया कि वह बहुत डरपोक है और अजनबियों से मिलने पर उसे घबराहट महसूस होता है। घर में उसके परिवार के साथ अच्छे संबंध हैं। अगर लोग उसकी बात नहीं मानते हैं तो उन्हें गुस्सा आता है और वह उनसे बात करना बंद कर देती हैं।

अब रुब्रिक को देखते हैं :-

  • आसानी से गुस्सा हो जाना
  • अजनबियों से मिलने पर घबराहट
  • मिठाई और चिकन खाने की इच्छा
  • दोनों हथेलियों और तलवों पर अधिक पसीना आता है
  • रोगी शीत प्रकृति का है

मानसिक और शारीरिक लक्षण के सभी पहलू को Silicea कवर करती है।

ऐसे में मैंने Silicea 200 की 2 बून्द हफ्ते में एक बार लेने की सलाह दी।

एक महीने बाद रोगी ने फोन पर कहा कि उसकी हथेलियों और तलवों पर का पसीना पूरी तरह से कम हो गया है। अब वह अपनी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को करने में सक्षम है।

मैंने Silicea 200 से बढ़ाकर Silicea 1M कर दिया। रोगी करीब 3 महीने में पूरी तरह से ठीक हो गया।

Video On Hyperhidrosis

Hyperhidrosis के कारण

Hyperhidrosis के मुख्य कारण अज्ञात है, लेकिन कुछ अन्य कारण हैं जैसे:-

  1. अनुवांशिक, यदि आपके परिवार में किसी को यह समस्या हो तो आपको भी यह समस्या हो सकती है।
  2. कुछ शोधों में यह पाया गया है की यह समस्या हमारे Nervous system से जुडी है, यदि आपके नर्वस में कुछ समस्या हो जाती है तो आपको यह बीमारी हो सकती है।
  3. यह समस्या अधिक चिंता के कारण भी हो सकती है। यदि आप बहुत घबरा जाते हैं या आपको बहुत बेचैनी हो जाती है तब यह समस्या आपको हो सकती है।
  4. यदि आप लगातार या अधिक मसाले और तीखी चीजे खाते है तो यह बीमारी होने की संभावना रहती है।
  5. यदि आप कॉफी अधिक पीते हैं तब भी आपको यह समस्या हो सकती है।
  6. कुछ बीमारियों में भी Hyperhidrosis की समस्या हो जाती है, जैसे कैंसर, मधुमेय में। यदि आप बहुत एलोपैथी दवा लेते है तब भी आपको यह समस्या हो सकती है।

Hyperhidrosis के लक्षण

  1. यदि आपको सामान्य से अधिक पसीना आता है तो इस समस्या को Hyperhidrosis कहा जाता है।
  2. यदि आपको पूरे शरीर में सामान्य से अधिक पसीना आये तो इसे generalize Hyperhidrosis कहा जायेगा और यदि आपके शरीर के किसी एक या दो हिस्सों पर अधिक पसीना आता है तो इसे Focal Hyperhidrosis कहा जाता है।
  3. Focal Hyperhidrosis में आपके हाथों की हथेलियों, पैरों के तलवों और Underarms में अधिक पसीना आता है। किसी-किसी को सिर में या पीठ पर भी पसीना आता है।

Adhik Pasina Aane ka Homeopathic Ilaj

Reckeweg R32 :- यह Dr. Reckeweg की जर्मनी की होम्योपैथी दवाई है। यह Hyperhidrosis के लिए बहुत ही असरदार है, Hyperhidrosis चाहे बच्चो को हो या बड़ो को यह दवाई सभी के लिए लाभदायक है। Hyperhidrosis के हर प्रकार के लक्षण और कारण के लिए यह दवाई बहुत ही काम आती है।

Reckeweg R32 लेने की विधि :- यदि बच्चो को Hyperhidrosis हो गया है तो आधे कप पानी में 10 बून्द डाल कर दिन में तीन से चार बार पीने को दें। यह दवाई एक महीने तक प्रयोग करे। यदि आप बड़े है तो आधे कप पानी में 20 बून्द डाल कर दिन में तीन बार लें।

Jaborandi 30 CH :- यदि आपका पसीना कभी रुकता नहीं और हाथो या शरीर में कही भी बहुत पसीना आता है तो यह दवाई बहुत ही असरदार है। इसकी दो-दो बून्द दिन में तीन बार पीनी है।

Silicea 200 CH :- यह दवाई Hyperhidrosis के लिए बहुत ही असरदार है, यदि आपके पूरे शरीर से पसीना निकलता है और पसीने से बदबू भी आती है तो यह दवाई बहुत ही असरदार है। यदि आपको रात में बहुत पसीना आता है तो भी यह दवाई बहुत फायदेमंद है। इसका प्रयोग अधिक नहीं करना है और इसे केवल हफ्ते में एक दिन रविवार को दो बून्द सुबह-सुबह पीना है।

नोट :- R32 का प्रयोग आपको रोज एक से छः महीने तक लेनी है और साथ ही बाकि दवाइयों का प्रयोग भी ऊपर जैसे लिखा है वैसे ही करना है। यह सभी दवाईयाँ आपको होम्योपैथी दूकान पर आसानी से मिल जाएगी। R32 आपको 220 की मिलेगी, यह दवाई बहुत ही लाभदायक और असरदार है।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

पुराने रोग के इलाज के लिए संपर्क करें