Scrofula Treatment In Homeopathy

452

शरीर के खून में दोष आ जाने, सीलनयुक्त स्थान पर रहने, पौष्टिक भोजन न मिल पाने, शुद्ध हवा न मिल पाने के कारण यह रोग होता है। इसमें गला, गर्दन, कॉख या जाँघ के पुट्ठे में बड़ी-बड़ी गिल्टियाँ निकल आती हैं जिसे ‘गण्डमाला’ या ‘कण्ठमाला’ भी कहा जाता है । इन गिल्टियों में से कुछ पक भी जाती हैं और कुछ नहीं पकती हैं ।

कल्केरिया कार्ब 6 – खासकर रोगी अगर बच्चा हो और यह अनुमान हो कि उसके शरीर में सोरा-विष है तो इस दवा का प्रयोग लाभप्रद है ।

आयोडम 30 – खाया-पीया शरीर में न लगे, हर वक्त खाने की इच्छा, दिन-ब-दिन शरीर कमजोर होते जाना आदि लक्षण मौजूद रहने पर इसे देना चाहिये ।

बेलाडोना 6 – गिल्टियों में प्रदाह, गले में दर्द, आँखे लाल होने पर इसका प्रयोग लाभप्रद है ।

हिपर सल्फर 30 – गिल्टियाँ पकने लगें तब इसका प्रयोग लाभदायक है । रोगी की आँखों में प्रदाह भी होता है।

सल्फर 200 – रोग पुराना पड़ जाने पर देनी चाहिये ।

Ask A Doctor

किसी भी रोग को ठीक करने के लिए आप हमारे सुयोग्य होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। डॉक्टर का consultancy fee 200 रूपए है। Fee के भुगतान करने के बाद आपसे रोग और उसके लक्षण के बारे में पुछा जायेगा और उसके आधार पर आपको दवा का नाम और दवा लेने की विधि बताई जाएगी। पेमेंट आप Paytm या डेबिट कार्ड से कर सकते हैं। इसके लिए आप इस व्हाट्सएप्प नंबर पे सम्पर्क करें - +919006242658 सम्पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

Loading...

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.